जिद्द छोड़कर कृषि कानून वापस ले केन्द्र सरकार - पूर्व डिप्टी सीएम

नए कृषि कानूनों ( agricultural laws ) को लेकर किसानों के चल रहे आंदोलन पर पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ( former Deputy CM Sachin Pilot ) ने कहा कि केन्द्र सरकार अपनी जिद्द छोड़कर इन कृषि कानूनों को तुरंत वापस ले।

By: Ashish

Updated: 24 Dec 2020, 03:54 PM IST

जयपुर/पाली
नए कृषि कानूनों ( agricultural laws ) को लेकर किसानों के चल रहे आंदोलन पर पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ( former Deputy CM Sachin Pilot ) ने कहा कि केन्द्र सरकार अपनी जिद्द छोड़कर इन कृषि कानूनों को तुरंत वापस ले। पायलट ने पाली में मीडिया से बातचीत में कहा कि इतनी क्या आवश्यकता और अनिवार्यता थी कि ये कानून लाए गए। इस कानून को लाने से पहले न किसान संगठनों से बात की गई और न ही राज्यों से। अब केन्द्र इन कानूनों में संशोधन करने को तैयार है। ऐसे में सरकार को कबूल करना चाहिए कि ये कानून ही गलत है। सरकार को अपनी कानून बनाने की जिद से पीछे हटकर किसानों भविष्य और आमजन की भावना को ध्यान में रखकर ये कानून वापस लेना चाहिए।

पायलट ने कहा कि केन्द्र सरकार को अपनी जिद्द और जो उन्होंने जबर्दस्ती से कानून पारित किए हैं, सरकार को पीछे हटना चाहिए। उससे किसान दो देश की रीढ की हडडी है वो अपना भविष्य असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। किसान चाहते हैं कि सरकार उनसे वार्ता करे। कृषि कानून वापस लें। एमएसपी का प्रावधान जोड़ा जाए। पायलट ने कहा कि केन्द्र की ओर से किसानों के भविष्य की जानबूझकर अनदेखी की जा रही है।

हम सबका एक उद्देश्य
पायलट ने कहा कि अजय माकन कई बार कह चुके हैं दिसंबर महीने में प्रदेश कार्यकारिणी का गठन होगा। जनवरी में राजनीतिक नियुक्तियों का काम होगा। यह हम सबका एक उद्देश्य है कि जो सरकार और संगठन ने जो वादे जनता से किए हैं, उस पर खरा उतरें। उस दिशा में हम मिलकर काम कर रहे हैं। गौरतलब है कि पूर्व डिप्टी सीएम पायलट ने गुरूवार सुबह सड़क मार्ग से पाली जिले के ग्राम चाड़वास (सोजत) पहुंचें और यहां उन्होंने पाली जिला कांग्रेस कमेटी के निवर्तमान अध्यक्ष चुन्नीलाल राजपुरोहित के पिताजी को श्रृद्धांजलि अर्पित की।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned