विदेशी सैलानियों की मेडिकल रिपोर्ट देखने के बाद प्रवेश

ना आना इस देश पावणो : कोरोना वायरस के चलते शिला माता तथा इस्कॉन सहित अन्य मंदिरों में घटी विदेशी सैलानियों की आवाजाही

By: Rajkumar Sharma

Updated: 07 Mar 2020, 01:05 AM IST

जयपुर. भारत में पैर पसार रहे कोरोना वायरस के चलते राजधानी में पर्यटकों की आवाजाही घटी है। वहीं, इस वायरस का असर यहां के धार्मिक स्थलों पर भी देखने को मिल रहा है तथा चर्चित तीर्थस्थलों पर विदेशी सैलानियों की आवक तेजी से घटी है। बिड़ला मंदिर तथा आमेर स्थित शिला माता मंदिर में बीते महीने जहां रोजाना 500 से ज्यादा पर्यटक आते थे। अब इनकी संख्या महज 20-25 प्रतिशत रह गई है। उधर, मानसरोवर धौलाई स्थित इस्कॉन मंदिर प्रबंधन ने विदेशी पर्यटकों को मंदिर नहीं आने की एडवाइजरी जारी की है।
मेडिकल रिपोर्ट के बाद प्रवेश
इस्कॉन मंदिर के मीडिया प्रवक्ता जनार्दन जितेन्द्रदास ने बताया कि विदेशी भक्तों की मेडिकल रिपोर्ट देखने के बाद ही उन्हें मंदिर में प्रवेश दिया जाएगा। अन्यथा उन्हें आगामी कुछ दिनों तक मंदिर नहीं आने की सलाह दी जाएगी। वहीं, मंदिर में होने वाले फाग सहित आगामी कई कार्यक्रम रद्द कर दिए गए हैं। है।
बिड़ला मंदिर स्थित हिंदुस्तान चैरिटी ट्रस्ट के मैनेजर राधेश्याम रुंगटा ने बताया कि इटली, जापान और कोरिया सहित अन्य देशों से रोजाना विभिन्न समूहों में 200 से ज्यादा विदेशी सैलानी आते थे, जिनकी संख्या घटकर 40 के आसपास पहुंच गई है। वहीं, प्रदेश सहित देश के विभिन्न स्थानों से आने वाले पर्यटक मास्क लगाकर मंदिर में पहुंच रहे हैं।
अब 150 सैलानी ही
आमेर महल स्थित शिला माता मंदिर के पुजारी बनवारी लाल शर्मा ने बताया कि करीब एक माह पूर्व 500 से अधिक सैलानी रोजाना मंदिर आते थे। अब इनकी संख्या 150 के आसपास तक रह गई है।

Rajkumar Sharma Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned