राजस्थान के बाद गुजरात बॉर्डर को करेंगे टोल फ्री ,प्रदेश में मिला जुला रहा असर

शाहजहांपुर बॉर्डर हुआ टोल फ्री

बूंदी, सीकर, नागौर, झुंझुनू, हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर आदि में टोल प्लाजा हुई फ्री
अगले चरण में दौसा, करौली के टोल प्लाजा फ्री करवाने की कवायद
राजस्थान के बाद गुजरात में आंदोलन की होगी शुरुआत
गुजरात के टोल प्लाजा फ्री करवाएगा संयुक्त किसान मोर्चा
कश्मीर के किसान प्रतिनिधि मंडल ने शाहजहांपुर खेड़ा बॉर्डर पहुंचकर किसान आंदोलन को दिया समर्थन

By: Rakhi Hajela

Published: 12 Feb 2021, 09:09 PM IST


संयुक्त किसान मोर्चा (Sayukat Kisan Morcha) की ओर से शुक्रवार को प्रदेश में टोल प्लाजा (Toll Plaza) को टोल फ्री (Toll Free) करवाने के लिए आंदोलन (Protest) का शुरुआत की गई। इस अभियान का प्रदेश में मिला जुला असर नजर आया। प्रदेश के बूंदी, सीकर, नागौर, झुंझुनू, हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर आदि में टोल प्लाजा को फ्री करवाया गया। वहीं शाहजंहापुर बॉर्डर (Shahjahanpur border) पर भी टोल प्लाजा को टोल मुक्त करवाने में मोर्चे को सफलता मिली। संयुक्त किसान मोर्चे के नेता हिम्मत सिंह ने बताया कि आंदोलन की शुरुआत की गई है। आंदोलन को धीरे धीरे विस्तार दिया जाएगा। उनका कहना था कि मोर्चे के क्षेत्रीय किसान नेता आगामी चरणों में दौसा और करौली के टोल प्लाजा को फ्री करवाएंगे। टोल प्लाजा को टोल मुक्त किए जाने को लेकर शुरू किए गए इस आंदोलन की सफलता को लेकर उनका कहना था कि उत्तरप्रदेश में जब अभियान शुरू किया गया था उस दौरान भी इस प्रकार के सवाल उठे थे लेकिन कुछ ही दिन में टोल स्थाई रूप से टोल मुक्त हो गए। सम्पूर्ण राजस्थान को टोल मुक्त किए जाने के ऐलान को अभी दो दिन ही हुए हैं, ऐसे में अन्य जिलों को भी टोल मुक्त किए जाने में समय लग सकता है।
नीमराना टोल प्लाजा हुआ टोल फ्री
वहीं संयुक्त मोर्च के नेता राजाराम मील ने नीमराना में आंदोलन की कमान संभाली थी। मील ने कहा कि उनके नेतृत्व में किसानों ने नीमराना में टोल प्लाजा पर धरना दिया। जिसके बाद चार घंटे के लिए टोल फ्री रहा।
राजस्थान के बाद गुजरात की बारी
हिम्मत सिंह ने बताया कि संयुक्त किसान मोर्चा राजस्थान के बाद गुजरात बॉर्डर को भी टोल फ्री करने के लिए आंदोलन करेगा। उनका कहना था कि झज्जर में हुई मोर्च की बैठक में इस संबंध में निर्णय लिया गया है। गुजरात में इस माह चुनाव है, वहां चुनाव की प्रक्रिया पूरी होने के बाद मोर्चा वहां भी अपना आंदोलन शुरू करेगा।
शाहजंहापुर बॉर्डर पर हुई आमसभा
इस दौरान शाहजंहापुर बॉर्डर पर आमसभा को संबोधित करते हुए किसान नेताओं ने कहा कि सभी जगह टोल फ्री होने से आमजनता को टोल के नाम पर हो रही सरकारी लूट से राहत मिल सकेगी और केन्द्र की भाजपा.आरएसएस की की गूंगी बहरी मोदी सरकार का ध्यान महीनों से सड़कों पर बैठे किसानों की और भी जाएगा। कश्मीर से आए किसान नेता गुलाम कादर बट्ट ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि कश्मीर का किसान भी पूरे देश के किसानों के इस आंदोलन के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है। पूर्व आईआरएस केसी घुमरिया और एनएफआईयू की राष्ट्रीय महासचिव एनी राजा ने किसान आंदोलन का समर्थन किया। आमसभा को मोहम्मद याकूब, इन्द्रराजा सिंह, गुलाम कादर बट्ट, मदन सिंह यादव, ,गुलाम मोहम्मद शाह, तारा सिंह सिद्धु, विपिन कुमार चड्डा, अधिवक्ता ईश्वर सिंह, विक्रम सिंह,अभय सिंह,उमराव सिंह, मनजीत सिंह ठकराल, गुरुपेज़ सिंह, विजय कुमार, मग्गाराम जाखड़, कमलेश विश्नोई, अशोक प्रधान, अब्दुल लतीफ, मोहनलाल बैरवा, राजकुमार ,सैयद असगर अली, एनी राज, मिजराब , मोहम्मद आयब, मौलाना हनीफ, मेवाराम कालवी, जवान सिंह मोचा, पिंटू बाड़ोली डा.हीरा मीणा, अक्षय ,शीतल कंवर, छाया कंवर आदि ने संबोधित किया।

किसान महापंचायत ने बनाई दूरी
संयुक्त मोर्चा ने भले ही राजस्थान के टोल नाकों को टोल मुक्त किए जाने के निर्णय से किसान महापंचायत ने किनारा कर लिया। महापंचायत के रामपाल जाट ने कहा कि वह एेसा कोई काम नहीं करेंगे जिससे सरकार या प्रशासन के साथ टकराव हो।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned