लॉक डाउन के बाद ऋण चुकाने वालों पर पड़ेगा 10 किस्तों का अतिरिक्त भार

लॉक डाउन के बाद छोटे और मध्यम उद्यमियों को ऋण चुकाने में खासी परेशानी हो सकती है। आरबीआई ने भारत के सभी बैंक एवं नॉन बैंकिंग वित्तीय संस्थाओं को ऋण की तीन महीनों की किस्तों को स्थगित करने का आदेश दिया है। किस्तों के स्थगन का आदेश सभी तरह के ऋणों पर दिया गया है, लेकिन अगर इस पत्र को विस्तृत रूप से जांचें तो यह छूट नहीं के बराबर है|

By: rahul

Published: 18 Apr 2020, 08:02 PM IST

जयपुर।

लॉक डाउन के बाद छोटे और मध्यम उद्यमियों को ऋण चुकाने में खासी परेशानी हो सकती है। आरबीआई ने भारत के सभी बैंक एवं नॉन बैंकिंग वित्तीय संस्थाओं को ऋण की तीन महीनों की किस्तों को स्थगित करने का आदेश दिया है। किस्तों के स्थगन का आदेश सभी तरह के ऋणों पर दिया गया है, लेकिन अगर इस पत्र को विस्तृत रूप से जांचें तो यह छूट नहीं के बराबर है|

यदि कोई लोन किसी भी श्रेणी में 20 साल के लिए लिया है और यदि उसकी औसत ब्याज की दर 9 प्रतिशत है और यदि लोन 19 साल का अभी बाकी है तो इस आदेश के कारण लोन लेने वालों को लगभग 10 किस्तों का अधिक भुगतान करना पड़ेगा और यदि लिए गए लोन 15 साल का बाकी है तो लगभग 6 महीने की अतिरिक्त किस्तों का भार पड़ेगा और इसी तरीके से यदि लोन 10 साल का बाकी है तो लगभग 3 महीनों का अतिरिक्त किस्तों का भुगतान करना पड़ेगा और यदि लोन 5 साल का बाकी है एक ईएमआई का अधिक भार ऋण लेने वाले पर पड़ेगा| कांग्रेस के सीए प्रकोष्ठ के अध्यक्ष सीए विजय गर्ग ने बताया कि ऐसे में लोन लेने वाले लोगों को खासी परेशानी हो सकती है।

rahul Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned