आगरा के जूता बाजार को ग्राहकों का इंतजार

आगरा। उत्तर प्रदेश का आगरा शहर ( Agra city ) जूतों का हब ( Hub of shoes ) भी बोला जाता है। दुनिया के हर कोने में लोग आगरा से निर्यात ( exported ) किए गए जूते पहनते हैं। लेकिन लॉकडाउन ( lockdown ) में कारखानों के शटर डाउन ( shutters of factories ) हैं। प्रदेश के आंकड़ों पर गौर करें, तो इस शहर में कोरोना संक्रमण ( corona infections ) के मामले सबसे ज्यादा हैं। इसी वजह से प्रशासन की सख्ती भी यहां बहुत ज्यादा है। ईद का त्योहार ( Eid festival ) आने को है। इस त्योहार के समय हर साल यहां का जूता बाजार भी

By: Narendra Kumar Solanki

Published: 23 May 2020, 06:20 PM IST

आगरा फुटवेयर मैन्युफैक्चर्स एंड एक्सपोट्र्स चैम्बर के अध्यक्ष पूरन डावर ने बताया, 'आगरा शू इंडस्ट्री 5000 करोड़ रुपए का आयात व निर्यात करती है, जिसमें डायरेक्ट एक्सपोर्ट 3500 करोड़ रुपए और 1500 करोड़ रुपए का डीम्ड एक्सपोर्ट। अप्रेल से बीच जुलाई तक सीजन होता है और हमने पहले से ही मार्च, अप्रेल, मई गुजार दिया है। अभी भी कुछ इंडस्ट्री पूरी तरह से चालू नहीं हैं। कहीं कंटेटमेंट जोन तो कहीं मूवूमेंट इश्यू है।Ó उन्होंने कहा, 'हमारे कुछ ऑर्डर्स कैंसिल हो चुके है और जो कुछ अभी डिमांड में है, अगर वो पूरा नहीं कर पाए तो हम यह पूरा साल खो देंगे। डोमेस्टिक इंडस्ट्री को बाजार पर फिर से पकड़ बनाने के लिए 6 महीने और संघर्ष करना पड़ेगा और एक्सपोर्ट को पटरी पर लौटने में एक साल से ज्यादा समय लग सकता है।
आगरा में करीब 150 औद्योगिक इकाइयां है, जो अपने उत्पाद एक्सपोर्ट करती है और घरेलू उद्योग की बात करें तो यहां इसके 10,000 से ज्यादा यूनिट हैं। इसमें छोटे-बड़े मैन्युफैक्चरिंग यूनिट, माइक्रो लेवल मैन्युफैक्चरिंग यूनिट और हाउसहोल्ड जो घर-घर में जूते तैयार कर करते है, वे शामिल हैं। जूता व्यापार पर लॉकडाउन का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा है। चाइना से रॉ मटेरियल हमारे यहां बहुत आयात किया जाता है। जैसे फोम, मेटल, ऑर्नामेंट, लेदर लाइनिंग, इलास्टिक, सिंथेटिक चीजें वगैरह। हमारे यहां जब तक अल्टरनेटिव एसेसरीज का इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं होगा, तब तक हम चाइना से आयात के बिना अपना वजूद नहीं बचा पाएंगे। अब मन में एक भावना है कि हमें चीन से दूर जाना चाहिए और हम फुटवियर कंपोनेंट इंडस्ट्री को मजबूत करेंगे, जिससे कि हमें चाइना पर निर्भर न होना पड़े, लेकिन आत्मनिर्भर बनने में अभी समय लगेगा।Ó

Narendra Kumar Solanki Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned