Agriculture : नैनो आधारित कृषि इनपुट का होगा मूल्यांकन

Agriculture : देश में नैनो आधारित कृषि इनपुट एवं खाद्य उत्पादों के मूल्यांकन के लिए मंगलवार को दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और कृषि मंत्री नरेंद्र ङ्क्षसह तोमर ने संयुक्त रूप से यह दिशानिर्देश जारी किया।

By: hanuman galwa

Published: 07 Jul 2020, 07:19 PM IST

नैनो आधारित कृषि इनपुट का होगा मूल्यांकन
स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और कृषि मंत्री नरेंद्र ङ्क्षसह तोमर ने जारी की गाइडलाइन

जयपुर। देश में नैनो आधारित कृषि इनपुट एवं खाद्य उत्पादों के मूल्यांकन के लिए मंगलवार को दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और कृषि मंत्री नरेंद्र ङ्क्षसह तोमर ने संयुक्त रूप से यह दिशानिर्देश जारी किया।
गाइडलाइंस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के बायोटेक्नालाजी विभाग, भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय ने मिलकर बनाई है। इस अवसर पर डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि विज्ञान के क्षेत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश बहुत आगे बढ़ा है। नैनो प्रौद्योगिकी क्षेत्र में भारत दुनिया में तीसरे नंबर पर और मौसम पूर्वानुमान में चौथे क्रम पर है। इस तरह प्रमुख प्रौद्योगिकी पैरामीटर्स में, दुनिया में पहले दस नंबर के अंदर भारत आता है। उन्होंने कहा कि नैनो प्रौद्योगिकी का लाभ किसानों को व्यापक रूप से मिल सकेगा, ये गाइडलाइंस उसमें विशेष सहायक होगी। तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य दिया है और इस दिशा में सभी प्रयत्न कर रहे हैं। कृषि सचिव संजय अग्रवाल ने बताया कि नैनो प्रौद्योगिकी अपनाने से 15 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की बचत होगी। इस अवसर पर केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री परषोत्तम रूपाला, बायोटेक्नोलॉजी विभाग की सचिव डॉ. रेणु स्वरूप, वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं सलाहकार डॉ. सुचिता निनावे और सरकारी अनुसंधान संस्थान और विश्वविद्यालय के वरिष्ठ अधिकारी एवं विशेषज्ञ वीडियो कांफ्रेंङ्क्षसग के जरिए मौजूद थे।

hanuman galwa Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned