कोरोना महामारी ने बिगाड़ी हवाईयात्रा की सेहत

कोरोना वैश्विक महामारी के कारण लॉकडाउन लगने से जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त है। इसके कारण परिवहन के सभी साधन भी पूरी तरह से बंद है। हवाईसफर की बात करें तो बीते 10 साल में सबसे कम यात्रीभार मिल रहा है।

By: santosh

Updated: 20 May 2021, 11:21 AM IST

जयपुर। कोरोना वैश्विक महामारी के कारण लॉकडाउन लगने से जनजीवन पूरी तरह से अस्त-व्यस्त है। इसके कारण परिवहन के सभी साधन भी पूरी तरह से बंद है। हवाईसफर की बात करें तो बीते 10 साल में सबसे कम यात्रीभार मिल रहा है। बीते बुधवार को जयपुर से केवल चार उड़ानों का संचालन हुआ। 17 से अधिक उड़ाने रद्द रही। वहीं समर शेडयूल भी पूरी तरह से प्रभावी नहीं हो पाया। आज भी जयपुर एयरपोर्ट से छह से सात उड़ानों का संचालन तय किया गया है।

देश की सबसे बड़ी एयरलाइन कंपनी इंडिगो एयरलाइन की केवल एक से तीन उड़ान जयपुर से भर रही है। देखा जाए तो 10 साल में एक दिन में सबसे कम उड़ान संचालन हो रहा है। हालांकि इससे पहले बीते साल लॉकडाउन होने से दो महीने तक घरेलु और अंतरराष्ट्रीय उड़ान का संचालन नहीं हुआ था। स्पाइसजेट, गोएयर, एयरएशिया एयरलाइन ने उड़ान नहीं भरी। एयर इंडिया की केवल तीन से अधिक उड़ानों का संचालन हो पा रहा है। कम संचालन से एयरपोर्ट पर जुड़ी निजी फर्मों के कर्मी परेशान है, ठेकेदारों की ओर से कर्मियों का भुगतान पहले ही समय से नहीं हो पा रहा है।

पहले 15 हजार यात्रीभार अब 650 के आसपास
एविएशन एक्सपट्र्स की मानें तो अगर यह स्थिति आगे भी रहती है, तो सभी एयरलाइंस कंपनियां यात्री उड़ान का संचालन स्थिति सामान्य नहीं होने तक पूरी तरह बंद कर सकती हैं। स्पाइसजेट की अमृतसर, सूरत, मुंबई, अहमदाबाद, इंडिगो की हैदराबाद, बेंगलूरु की दो, अहमदाबाद, मुंबई की दो, दिल्ली की एक, गो एयर की मुंबई, अहमदाबाद, बेंगलूरु, एयर एशिया की मुंबई और हैदराबाद की फ्लाइट रद्द चल रही है। गौरतलब है कि कोरोना से पहले एयरपोर्ट पर रोजाना लगभग 15 हजार यात्रीभार होता था, जो अब 650 के करीब रह गया है।

एक्यूआई सर्वेक्षण में सुधरी एयरपोर्ट की रैकिंग
एयरपोर्ट काउंसिल इंटरनेशनल (एक्यूआई) द्वारा किए गए तिमाही सर्वेक्षण में जयपुर एयरपोर्ट की रैंक में यात्रीभार कम होने के बावजूद सुधार आया है। हर तीन महीने में विश्व के एयरपोर्ट का सर्वेक्षण किया जाता है। जनवरी से मार्च के बीच किए गए सर्वेक्षण में जयपुर एयरपोर्ट की रैंक 41वीं रही। अक्टूबर से दिसंबर के बीच हुए सर्वेक्षण की तुलना में जयपुर एयरपोर्ट की रैंक 37 स्थान सुधरी है। यह सर्वेक्षण एयरपोर्ट सर्विस क्वालिटी (एएसक्यू) के लिए किया जाता है। इसमें किसी भी एयरपोर्ट को 33 मानकों के आधार पर अंक दिए जाते हैं। जयपुर एयरपोर्ट के 0.22 रेटिंग अंक बढ़े हैं। 2015 और 2016 में जयपुर एयरपोर्ट विश्व का नंबर 1 एयरपोर्ट रह चुका है।

coronavirus

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned