Diwali 2020: कोरोना काल में गुलाबी नगर में चहुंओर जगमगाएंगे खुशियों के दीप

सर्वार्थसिद्धि योग, स्वाति नक्षत्र और सौभाग्य योग में दिवाली आज

By: SAVITA VYAS

Published: 14 Nov 2020, 10:43 AM IST

जयपुर। उमंग-उत्साह-उल्लास और रोशनी का पर्व दिवाली सर्वार्थसिद्धि योग, स्वाति नक्षत्र और सौभाग्य योग में कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी युक्त अमावस्या पर आज मनाया जा रहा है। रोशनी से जगमग शहर में विभिन्न मुहूर्त में लक्ष्मी पूजन होगा। हालांकि इस बार कोरोना के मद्देनजर पटाखे और आतिशबाजी से रंग-बिरंगा आसमान सरोबार नजर नहीं आएगा। इससे पूर्व धन देवी की मां लक्ष्मी के स्वागत के लिए घरों में सभी तैयारियों को अंतिम रूप दिया गया। आज शाम को शहरवासी परिवारजनों के साथ मिलकर घरों और प्रतिष्ठानों में लक्ष्मी पूजन करेंगे। साथ ही भगवान गणेश, लक्ष्मी, सरस्वती, कुबेर से सुख-समृद्धि की कामना की जाएगी। इससे पूर्व दीपदान किया जाएगा। ज्योतिषविदों के मुताबिक इस बार कई ग्रहों का संयोग दिवाली के पर्व पर खास बनेगा, जो आगामी समय में देश की साख को ओर मजबूत करेगा। साथ ही विदेशों से भारत के संपर्क और अच्छे होंगे।

गोबर के दीपकों की मांग ज्यादा
दिवाली की पूर्व संध्या पर शुक्रवार शाम को परकोटे के बाजारों में खरीदारों की भीड़ नजर आई। घर के साज-सज्जा सामान से लेकर मांडने, दीपक, लक्ष्मी पूजन सामग्री, फ ल-फूल, प्रसाद व गन्ने आदि की बिक्री हुई। खासतौर पर इस बार आत्मनिर्भर भारत के तहत गौशालाओं में बने गोबर के दीपकों की मांग ज्यादा देखने को मिली। पिंजरापोल गोशाला में गोबर के दीपक, भगवान लक्ष्मी गणेश की प्रतिमा भी तैयार की गई। दिवाली पूजन के लिए शुभ माने जाने वाले गन्ने की जोड़ी की कीमत इस बार महंगी है। एक जोड़ी गन्ने की कीमत जहां 50 रुपए तो हजारे की माला के दाम भी बढ़े हुए नजर आए। हजारे की माला की कीमत 30 से 70 तो वहीं गुलाब की माला 80 रुपए प्रति माला तक बिकी। लंबे समय बाद छोटे से लेकर बड़े व्यापारी भी खुश नजर आए। कोरोना के मद्देनजर बीते आठ माह से ठप पड़ा बाजार अब धीरे-धीरे सुधरने लगा है। सबसे ज्यादा भीड़ वाहन शोरूम, ज्वैलरी शोरूम, कपड़ों की दुकान और मोबाइल की दुकानों पर देखने को मिली।

शहरवासी पहुंचे सजावट देखने
परकोटे के चांदपोल, बड़ी चौपड़, जौहरी बाजार में की गई रोशनी आकर्षण का केंद्र रही। इस दौरान कहीं माता लक्ष्मी भक्तों को आशीर्वाद देती नजर आईं तो कहीं रामदरबार, स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी की प्रतिमा भी आकर्षण का केंद्र रही। इस बीच कोरोना काल में व्यापार मंडलों ने आमजन को कोरोना के प्रति जागरूक करने के लिए दरवाजों पर मास्क लगाने, दो गज की दूरी की पालना सहित अन्य संदेशों के जरिए जागरूक किया। शाम को शहरवासी परकोटे की खबूसूरती निहारने पहुंचे। हर बाजार को अलग-अलग रंग में सजाया गया। कहीं दीपक तो कहीं राजस्थान लोक संस्कृति की रंग बिरंगी रोशनी देखने लायक रही। बच्चों ने परिवार के साथ सजावट के बीच फ ोटोज क्लिक भी की। इस बीच कुछ बाजारों में जाम की स्थिति भी रही।

SAVITA VYAS Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned