सामूहिक क्षमापन समारोह: राजस्थान जैन सभा ने किया 71 त्यागी-व्रतियों का सम्मान

सामूहिक क्षमापन समारोह: राजस्थान जैन सभा ने किया 71 त्यागी-व्रतियों का सम्मान
सामूहिक क्षमापन समारोह: राजस्थान जैन सभा ने किया 71 त्यागी-व्रतियों का सम्मान

abdul bari | Publish: Sep, 16 2019 08:34:07 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2019 08:34:08 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

राजस्थान जैन सभा ( rajasthan jain sabha ) के तत्वावधान में समग्र दिगम्बर जैन समाज का सामूहिक क्षमापन समारोह सोमवार को नारायण सिंह सर्किल स्थित भट्टारकजी नसियां में हुआ। इस मौके पर 10 दिन व उससे अधिक के उपवास करने वाले 71 त्यागी-व्रतियों का सम्मान किया गया।

जयपुर

राजस्थान जैन सभा ( rajasthan jain sabha ) के तत्वावधान में समग्र दिगम्बर जैन समाज का सामूहिक क्षमापन समारोह सोमवार को नारायण सिंह सर्किल स्थित भट्टारकजी नसियां में हुआ। इस मौके पर 10 दिन व उससे अधिक के उपवास करने वाले 71 त्यागी-व्रतियों का सम्मान किया गया। मुनि विद्या सागर महाराज ससंघ व मुनि श्रद्धानन्द महाराज ससंघ के सानिध्य में आयोजित समारोह का शुभारम्भ छात्राओं ने मंगलाचरण गाकर किया। इस बीच दीप प्रज्वलन किया गया।

सामूहिक क्षमापन समारोह: राजस्थान जैन सभा ने किया 71 त्यागी-व्रतियों का सम्मान

समाज में वात्सल्य व प्रेम होना चाहिए

इस मौके पर मुनि विद्या सागर महाराज ने ने कहा कि जैन संस्कृति भारतीय संस्कृति की रीढ़ है, सीमा पर खडे सैनिक का धर्म भारतीय हैं। अपनों से क्षमा मांगना क्षमा की श्रेणी में नहीं आता हैं, अपितु जिनसे नफरत की दीवार खडी कर रखी हैं, नफरत की उस दीवार को गिराना ही हृदय से क्षमा हैं। गल्तियां होना स्वाभाविक हैं, गल्तियों को दोहरावें नहीं, अपितु उनको सुधारना चाहिए। क्षमा केवल वाणी तक सीमित न हों अपितु इसे हृदय में धारण करें। धार्मिक संस्थाओं में राजनीति नहीं, अपितु धर्म नीति होनी चाहिए। समाज में वात्सल्य व प्रेम होना चाहिए।

सामूहिक क्षमापन समारोह: राजस्थान जैन सभा ने किया 71 त्यागी-व्रतियों का सम्मान

गलतियों के लिए क्षमा याचना ( jain community )


मुनि श्रद्धानन्द महाराज ने कहा कि स्वयं की साधना ही तप हैं। जैन धर्म वीरों का धर्म हैं, कायरों का नहीं। क्षमा उनसे मांगों जिनका आपने दिल दुखाया हो। क्षमा उन मां-बाप से मांगों जिन्हें उनके बेटों ने उन्हें वृद्धाश्रम भेजा हैं। अंत में आभार महामंत्री प्रदीप जैन ने व्यक्त किया। कार्यक्रम के बाद समाजबंधुओं ने आपस में गले मिलकर, छोटो ने बड़ों के पैर छूकर गत वर्ष की गलतियों के लिए क्षमा याचना की।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned