12 लड़कियों से विवाह के लिए 224 युवकों ने किए आवेदन

224 युवकों ने किया था विवाह के लिए आवेदन
मंत्री अरूण चतुर्वेदी ने दिया बेटियों को आशीर्वाद

By: chhavi avasthi

Published: 20 Jul 2018, 06:35 PM IST

राजस्थान में लड़कियों की संख्या कम होने के कारण लड़कों के विवाह के लिए लड़कियों का मिलना मुश्किल हो रहा है। इसका ताजा उदाहरण महिला सदन में हो रही आवसनियों के विवाह में देखने को मिला है। महिला सदन में 12 आवासनियों से विवाह करने के लिए 224 युवक वरमाला लेकर तैयार थे लेकिन उनमें से 212 युवकों को निराश ही लौटना पड़ा।

आमतौर पर राजस्थान के परिपेक्ष में एक कहावत बहुत प्रसिद्ध है की लड़कियों के लिए अच्छा वर ढूंढना माता-पिता के लिए टेढी खीर है। लेकिन राजस्थान में हालात बिल्कुल विपरीत है। यहां युवकों को दुल्हन मिलने में परेशानी हो रही है यही कारण है की महिला सदन में रह रही लड़कियों के विवाह के लिए जब आवेदन मांगे गए तो 224 युवकों ने लड़कियों से विवाह करने की इच्छा जताते हुए आवेदन किए। इनमें से 172 युवाओं का चुनाव कर 12 सुयोग्य वरों की खोज की गई। बाकि बचे 212 युवाओं को टूटे हुए विवाह के सपने के साथ खाली हाथ लौटना पड़ा

जिन्होंने हमेशा सामाजिक तिरस्कार देखा, समाज के ताने सुने आज उन्हीं की आंखों में एक नई चमक थी। चमक थी, क्योंकि वो अपना जीवन हंसी खुशी नए जीवन साथी के साथ शुरू कर रहीं थी। आशा थी कि नया जीवन उनकी जिंदगी में ढेरों खुशियां लेकर आएगा। कुछ ऐसा ही नजारा था समाज कल्याण विभाग के अधीन आने वाले महिला सदन में। जहां कि 12 बेटियां आज विवाह सूत्र में बंध गई।

समाज कल्याण विभाग के महिला सदन में रह रही 12 बेटियां आज विवाह सूत्र में बंध गई। इस मौके पर उनके चेहरे की खुशी देखते ही बनी। 12 बेटियों से शादी के लिए 224 युवकों ने अपना भाग्य आजमाया। विभिन्न चयन प्रक्रिया से गुजरने के बाद अंतिम 12 का चयन हुआ। ये 12 युवक अपने परिवार के साथ गाजे-बाजे से प्रताप नगर स्थित महिला सदन पहुंचे। सभी बारातियों का परम्परागत हिन्दू रीति-रिवाज से स्वागत किया गया। गुड चढाई भी हुई तो बारात भी निकली। इस दौरान 12 दूल्हे घोड़ियों पर सवार होकर महिला सदन के द्वार पर पहुंचे। इन बेटियों का विवाह हिंदू धार्मिक रीति से संपन्न हुआ। इन 12 बेटियों ने 5 मूक-बधिर भी हैं। कुछ ने महिला सदन में रहते हुए प्रोफेषनल कोर्स कर नौकरी भी हासिल भी कर ली है.

chhavi avasthi Content Writing
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned