पांच साल की बालिका की हत्या करने वाले गिरफ्तार

सांगानेर सदर थाना पुलिस ने पांच दिन पहले एक बालिका की हत्या कर उसके शव को बोरे में डालकर चैम्बर में पटकने के मामले में बालिका के पिता की प्रेमिका और उसके एक भाई को गिरफ्तार और दूसरे भाई को निरुद्व किया हैं।

By: Lalit Tiwari

Updated: 08 Apr 2020, 10:40 PM IST

सांगानेर सदर थाना पुलिस ने पांच दिन पहले एक बालिका की हत्या कर उसके शव को बोरे में डालकर चैम्बर में पटकने के मामले में बालिका के पिता की प्रेमिका और उसके एक भाई को गिरफ्तार और दूसरे भाई को निरुद्व किया हैं।
पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि 4 अप्रेल को जेडीए कॉलोनी बक्शावाला निवासी संजय वर्मा की पांच साल की बेटी जान्हवी उर्फ डब्बू लापता हो गई थी। पुलिस को उसकी लाश फ्लैट के मध्य बने गटर और बाथरूम के चैम्बर में मिली थी। मामले की गंभीरतो को देखते हुए इसमें सात थानाधिकारियों के नेतृत्व में 60 पुलिसकर्मियों की टीम गठित की गई थी। टीम ने पड़ताल की तो घटनास्थल के पास बंद पड़े फ्लैट में एक व्यक्ति के दो पद चिन्ह मिले। उसके ठीक उपर वेन्टीलेशन भाग की मुंडेर के पास खून का धब्बा मिला। इस पर पुलिस ने संदिग्ध व्यक्तियों के पदचिन्ह लेकर फ्लैट के अहाते में मिले पद चिन्हों से एक्सपर्टस द्वारा मिलान कराया गया इस पर संदिग्ध युवती जेडीए कॉलोनी बक्शावाला निवासी जूली जयकुमार उर्फ एकता और उसके भाई जॉन आशीष और लाश को छिपाने के मामले में विधि से संघर्षरत बालक को निरुद्व किया गया।

इसलिए की थी बालिका की हत्या-
पुलिस पूछताछ में सामने आया कि एकता के अपने पड़ोसी मृतका बालिका के पिता संजय वर्मा से तीन साल से प्रेम प्रसंग चल रहा है। जिसको लेकर संजय वर्मा की पत्नी अनिता द्वारा गत एक साल में एकता के साथ लड़ाई झगड़ा और मारपीट भी हुई। लेकिन एकता और संजय के बीच लगातार प्रेम प्रसंग चलता रहा। अनिता एकता को लोगों के सामने ताने मारती थी। इस बात को लेकर वह अनिता को सबक सिखाना चाहती थी। इसी रंजिश के तहत 4 अप्रेल को एकता अपने घर जा रही थी, तभी बालिका जान्हवी उर्फ डब्बू को आता देख वह उसे पकड़कर अंदर ले गई और अपना म्यूजिक सिस्टम तेज चला दिया। ताकि बालिका के चिल्लाने की आवाज बाहर लोगों को सुनाई ना दे सके। एकता ने अपने घर की रसोई में जान्हवी को जान से मारने की नीयत से लोहे के सरिया से सिर पर वार कर दिया। मुंह और नाक को पांच मिनट से अधिक समय तक दबाकर रखा, जिससे उसकी मौत हो गई। हत्या करने के बाद लाश को जूट के बोरे में डालकर रसोई में ही छिपाए रखा। थोड़ी देर बाद भाई जॉन आशीष को जान्हवी की हत्या और लाश के संबंध में जानकारी दी तो उसने लाश को ठिकाने लगाने के लिए कहा। जॉन आशीष हत्या की बात सुनकर घबरा गया और अपनी बहन को बचाने के लिए अपने नाबालिक छोटे भाई के साथ मिलकर लाश को छिपाने की योजना बनाई। एकता के दोनों भाईयों ने लाश को घर के अंदर से वेन्टीलेशन के लिए छत में बने हुए भाग से छत पर पहुंचाया और गटर और बाथरुम के चैम्बर में डाल दिया। पुलिस ने पांच दिन पहले हुए इस हत्या का पर्दाफाश कर एकता और उसके भाईयों को गिरफ्तार कर लिया।

Lalit Tiwari Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned