scriptASCI Annual Complaint Report: 62 increase in objectionable advertiseme | Advertising Standards Council of India: एएससीआई वार्षिक शिकायत रिपोर्ट: आपत्तिजनक विज्ञापनों में 62 फीसदी की वृद्धि | Patrika News

Advertising Standards Council of India: एएससीआई वार्षिक शिकायत रिपोर्ट: आपत्तिजनक विज्ञापनों में 62 फीसदी की वृद्धि

एडवटाइजिंग स्टैंडर्ड्स काउन्सिल ऑफ इंडिया (Advertising Standards Council of India) ने 21 अप्रेल से 22 मार्च की अवधि के लिए अपनी वार्षिक शिकायत रिपोर्ट जारी की, जिसके दौरान कंपनी ने प्रिंट, डिजिटल और टेलीविजन सहित सभी माध्यमों में 5532 विज्ञापनों ( advertisements ) को संसाधित किया।

जयपुर

Published: June 29, 2022 12:19:23 pm

एडवटाइजिंग स्टैंडर्ड्स काउन्सिल ऑफ इंडिया (एएससीआई) ने 21 अप्रेल से 22 मार्च की अवधि के लिए अपनी वार्षिक शिकायत रिपोर्ट जारी की, जिसके दौरान कंपनी ने प्रिंट, डिजिटल और टेलीविजन सहित सभी माध्यमों में 5532 विज्ञापनों को संसाधित किया। डिजिटल डोमेन पर विशेष तौर पर ध्यान केंद्रित करने के साथ एएससीआई द्वारा 94 फीसदी समग्र अनुपालन दर देखी गई। वर्ष 2021-22 में एएससीआई ने पिछले वर्ष की तुलना में 62 फीसदी अधिक विज्ञापनों और 25 फीसदी अधिक शिकायतों को संसाधित किया, जबकि टेलीविजन और प्रिंट विज्ञापन फोकस में रहे, एएससीआई ने डिजिटल परिदृश्य में विज्ञापन को लगातार निगरानी में रखकर अपने दायरे को व्यापक बनाया। संसाधित किए गए विज्ञापनों में से लगभग 48 फीसदी डिजिटल माध्यम से संबंधित थे। पिछले वर्ष प्रभावशाली दिशा-निर्देशों के लागू होने के साथ ही साथ, प्रभावशाली लोगों के खिलाफ शिकायतें, कुल शिकायतों की 29 फीसदी थी। वहीं, मशहूर हस्तियों वाले विज्ञापनों में भ्रामक दावों की शिकायतों में 41 फीसदी की वृद्धि देखी गई, जिनमें से 92 फीसदी को एएससीआई के दिशानिर्देशों का उल्लंघन करते हुए पाया गया।
Advertising Standards Council of India: एएससीआई वार्षिक शिकायत रिपोर्ट: आपत्तिजनक विज्ञापनों में 62 फीसदी की वृद्धि
Advertising Standards Council of India: एएससीआई वार्षिक शिकायत रिपोर्ट: आपत्तिजनक विज्ञापनों में 62 फीसदी की वृद्धि
21 फीसदी उपभोक्ताओं की शिकायतें सामने आई
एएससीआई ने अपनी सक्रिय निगरानी जारी रखी और साथ ही संसाधित किए गए 75 फीसदी विज्ञापनों का चयन स्वत: प्रेरणा से किया गया। यह एआई आधारित निगरानी को शामिल करता है, जिसे एएससीआई ने डिजिटल ट्रैकिंग के लिए स्थापित किया है। 21 फीसदी उपभोक्ताओं की शिकायतें सामने आई हैं, इसके बाद इंट्रा-इंडस्ट्री में 2 फीसदी और सीएसओ और सरकारी शिकायतों में 2 फीसदी हैं। संसाधित किए गए कुल 5532 विज्ञापनों में से 39 फीसदी का विज्ञापनदाताओं द्वारा विरोध नहीं किया गया, उनमें से 55 फीसदी को जांच के बाद आपत्तिजनक पाया गया और 4 फीसदी विज्ञापनों के खिलाफ शिकायतों को एएससीआई कोड का उल्लंघन न करने के रूप में खारिज कर दिया गया। एएससीआई द्वारा संसाधित किए गए 94 फीसदी विज्ञापनों में परिवर्तन की आवश्यकता थी, जिससे कि एएससीआई कोड का उल्लंघन न हो।
आपत्तिजनक विज्ञापनों में 3 उल्लंघनकारी श्रेणियां
डिजिटल निगरानी पर अपना ध्यान केंद्रित करते हुए, उभरती श्रेणियों में आभासी डिजिटल संपत्ति और ऑनलाइन रियल मनी गेमिंग की अपेक्षाकृत नई श्रेणियां शामिल हैं, जिनमें से प्रत्येक में 8 फीसदी आपत्तिजनक विज्ञापनों में महत्वपूर्ण योगदान है। शिक्षा (33 फीसदी), स्वास्थ्य देखभाल (16 फीसदी) और व्यक्तिगत देखभाल (11 फीसदी) शीर्ष 3 उल्लंघनकारी श्रेणियां थी। एएससीआई ने शिकायतों के प्रबंधन और समाधान के चलते उपभोक्ताओं और विज्ञापनदाताओं दोनों को एक सहज अनुभव प्रदान करने के उद्देश्य से शिकायत प्रणाली 'तारा' को भी उन्नत किया है। शिकायतों की रीयल-टाइम ट्रैकिंग जैसी सुविधाएं, अनुभव को किसी भी समकालीन तकनीकी मंच से अपेक्षा के अनुरूप बनाती हैं। वार्षिक रिपोर्ट के बारे में बात करते हुए, सुभाष कामथ, चेयरमैन, एएससीआई, ने कहा, 'जिस तरह से यह विज्ञापन परिदृश्य पर हावी है, वर्ष 2021-22 एक ऐसा वर्ष था, जब हमने डिजिटल मीडिया की निगरानी में तेजी लाने के अपने वादे का पालन किया। हमने प्रौद्योगिकी में भारी निवेश किया है और यह काफी अच्छा परिणाम हमारे सामने लेकर आया है। हमने अपनी शिकायत प्रणाली को भी उन्नत किया है, जिससे उपभोक्ताओं के लिए अपनी शिकायतें दर्ज करा पाना और विज्ञापनदाताओं के लिए इसका जवाब देना बहुत आसान हो गया है। इस राह पर आगे बढ़ते हुए, हम यह समझने में सबसे आगे रहेंगे कि अधिक प्रतिक्रियाशील और अधिक सक्रिय बनने के लिए अपनी प्रक्रियाओं को सुव्यवस्थित करने के साथ ही डिजिटल परिदृश्य को कैसे विनियमित किया जाए और कैसे इसकी निगरानी को जारी रखा जाए।'
विज्ञापन विकास के मोर्चे पर स्व-नियमन
एएससीआई के सीईओ और सेक्रेटरी जनरल मनीषा कपूर ने कहा कि एएससीआई टीम, उपभोक्ता शिकायत परिषद्, समीक्षा पैनल में पूर्व उच्च न्यायालय के न्यायाधीश और हमारे डोमेन विशेषज्ञों ने इसकी बारीकियों पर गहन चर्चा की है, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि प्रक्रिया और परिणाम उपभोक्ताओं और विज्ञापनदाताओं दोनों के ही लिए उचित हैं। साथ ही, हमारे कोड में निरंतर अपडेट यह सुनिश्चित करता है कि हम उपभोक्ताओं और विज्ञापनदाताओं को नए और उभरते प्रारूपों और श्रेणियों पर लगातार मार्गदर्शन और पारदर्शिता प्रदान करते हैं। यह विज्ञापन विकास के मोर्चे पर स्व-नियमन को बनाए रखने में मदद करता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

मनीष सिसोदिया के घर समेत 31 जगहों पर रेड, 17 अगस्त को ही दर्ज हुई थी FIR, CBI ने जारी की पूरी डीटेलउपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर CBI की छापेमारी के बाद आम आदमी पार्टी ने किया ऐलान - '2024 में मोदी Vs केजरीवाल'Kerala News: मुस्लिम लीग के महासचिव का विवादित बयान, बोले- 'लड़के-लड़कियों का स्कूल में साथ बैठना खतरनाक'CBI Raids Manish Sisodia House Live Updates: बीजेपी की बौखलाहट ने देश को ये संदेश दिया है कि 2024 का चुनाव AAP v/s BJP होगा- संजय सिंहबंगाल, महाराष्ट्र में भी ED के छापे, उनके सामने तो मैं तिनका हूँ, 'सांसद अफजाल अंसारी ने दी चुनौती- पूर्वांचल हमारा ही रहेगा'Mumbai News: दही हांड़ी फोड़ने पर 55 लाख से लेकर स्पेन जाने सहित मिल रहे हैं ये खास ऑफर; पढ़े पूरी खबरबिहार में सूखे का जायजा लेने निकले थे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, गया में हेलीकॉप्टर की करवानी पड़ी इमरजेंसी लैंडिंगबिहार में सूखे का जायजा लेने निकले थे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, गया में हेलीकॉप्टर की करवानी पड़ी इमरजेंसी लैंडिंग
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.