आशा सहयोगिनी की गिरफ्तारी को भाजपा ने बताया संवेदनहीनता

आशा सहयोगिनी की गिरफ्तारी की भाजपा नेताओं ने भत्र्सना की है। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने कहा कि लगभग 15 दिनों से राजधानी जयपुर में आशा सहयोगिनी बहनें मानदेय सहित विभिन्न मांगों को लेकर धरना दे रही हैं, लेकिन गहलोत सरकार ना वार्ता कर रही है, ना ही समाधान निकाल रही है, बल्कि दमनकारी तरीके से आंदोलन को कुचलने का षड्यंत्र कर रही है।

By: Umesh Sharma

Published: 07 Jan 2021, 09:11 PM IST

जयपुर।

आशा सहयोगिनी की गिरफ्तारी की भाजपा नेताओं ने भत्र्सना की है। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने कहा कि लगभग 15 दिनों से राजधानी जयपुर में आशा सहयोगिनी बहनें मानदेय सहित विभिन्न मांगों को लेकर धरना दे रही हैं, लेकिन गहलोत सरकार ना वार्ता कर रही है, ना ही समाधान निकाल रही है, बल्कि दमनकारी तरीके से आंदोलन को कुचलने का षड्यंत्र कर रही है।

उन्होंने कहा कि गहलोत सरकार ने आशा सहयोगिनियों से उनकी मांगों को पूरा करने का वादा किया था, अब सरकार वादाखिलाफी क्यों कर रही है। इससे गहलोत सरकार की संवेदनहीनता जाहिर होती है। मुख्यमंत्री गहलोत ने किसानों, युवाओं से भी वादाखिलाफी की है, जिसका जनता आगामी निकाय, पंचायतीराज, विधानसभा उपचुनाव और विधानसभा चुनाव में कड़ा जवाब देगी।

सरकार का कृत्य निंदनीय

उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि किसानों के धरने को केन्द्र सरकार को बार-बार संवेदनहीनता का पाठ पढ़ाने वाले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की नाक के नीचे आशा सहयोगिनियों की गिरफ्तारी होना संवेदनहीन, निंदनीय व दुर्भाग्यपूर्ण कृत्य है। राठौड़ ने कहा कि महिलाओं के प्रति अपराधों में देशभर में दूसरे स्थान पर आने वाले राजस्थान में कांग्रेस सरकार महिलाओं पर अत्याचार की सारी सीमाएं लांघ रही हैं। जनघोषणा पत्र में आशा सहयोगिनियों का मानदेय बढ़ाने का वादा करने वाली कांग्रेस सरकार के कुशासन में विगत एक पखवाड़े से कड़ाके की ठंड में धरना देने को मजबूर सैकड़ों आशा सहयोगिनियों के साथ सकारात्मक वार्ता की पहल नहीं करना और उन पर दमनकारी रवैया अपनाते हुए इनकी गिरफ्तारी करना न्यायसंगत नहीं है।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned