गहलोत राज में ‘युवा हैरान, महिला परेशान, किसान हलकान’-पूनियां

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां ने कांग्रेस की गहलोत सरकार के दो वर्ष के रिपोर्ट कार्ड पर निशाना साधते हुए कहा कि राजस्थान की गहलोत सरकार पिछले दो साल में हर मोर्चे पर विफल रही। ना तो किसानों का सम्पूर्ण कर्जा माफ कर पाई, ना ही युवाओं को बेरोजगारी भत्त दे पाई, ना ही अपराधों पर नियंत्रण कर पाई।

By: Umesh Sharma

Updated: 16 Dec 2020, 08:45 PM IST

जयपुर।

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डाॅ. सतीश पूनियां ने कांग्रेस की गहलोत सरकार के दो वर्ष के रिपोर्ट कार्ड पर निशाना साधते हुए कहा कि राजस्थान की गहलोत सरकार पिछले दो साल में हर मोर्चे पर विफल रही। ना तो किसानों का सम्पूर्ण कर्जा माफ कर पाई, ना ही युवाओं को बेरोजगारी भत्त दे पाई, ना ही अपराधों पर नियंत्रण कर पाई। राजस्थान में आपराधिक घटनाएं चरम पर हैं और महिला, दलित एवं आदिवासी गहलोत राज में प्रताड़ित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि गहलोत राज में ‘‘युवा-हैरान, महिला-परेशान, किसान-हलकान’’।

डाॅ. पूनियां ने कहा कि ग्रामीण एवं शहरी विकास ठप पड़ा हुआ है, आर्थिक प्रबंधन में भी सरकार विफल रही है, हालात ये हैं कि सरकार दो साल में एक भी विकास का नया काम अपने शासन में शुरू नहीं कर पाई, जिसका दुष्परिणाम प्रदेश की जनता को भुगतना पड़ रहा है। अपने बजट भाषण में सवा लाख भर्तियों की घोषणा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने की थी, जिसे आज दिन तक पूरा नहीं कर पाए और तो और 35 हजार पद समाप्त कर प्रदेश के बेरोजगार युवाओं के साथ बड़ा छलावा किया है। वहीं संविदाकर्मियों को नियमित करने का वादा कर आज तक उनको नियमित नहीं कर संविदाकर्मियों के साथ न्याय नहीं किया है। डाॅ. पूनियां ने कहा कि कांग्रेस के प्रभारी व महासचिव अजय माकन एवं प्रदेशाध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा द्वारा जनघोषणा-पत्र पर रिपोर्ट कार्ड जारी कर 50 प्रतिशत काम पूरे होने का दावा हवा-हवाई है और ‘‘अपने मुंह मियां मिट्ठू बनने’’ जैसा है। उनका जनघोषणा-पत्र झूठ का पुलिन्दा है। किसानों, नौजवानों के साथ वादाखिलाफी की है।

कांग्रेस सरकार के दो वर्ष निराशाजनक, जनता कर रही है त्राहिमाम

उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कहा कि जनता से झूठे वादे कर सत्ता में आई कांग्रेस सरकार के दो वर्ष अत्यन्त निराशाजनक व विकास विरोधी रहे हैं। जनता इस कुशासन में त्राहि-त्राहि कर रही है। राठौड़ ने कहा कि नेशनल क्राइम ब्यूरो रिपोर्ट के आंकड़ों में दुष्कर्म से संबंधित अपराधों में देश में राजस्थान का पहला और दलित अत्याचार में दूसरा स्थान होना सिद्ध करता है कि आमजन असुरक्षित है। बेरोजगारी की दर 15.3 फीसदी रही जो देश में दूसरे स्थान पर है। ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल की रिपोर्ट ने राजस्थान को देश में सर्वोत्तम भ्रष्ट प्रदेश माना है। वरिष्ठ विधायक मंत्रिमंडल में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखते हैं लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण है कि उनके कानों में जूं तक नहीं रेंगती है। राठौड़ ने कहा कि आपसी गुटबाजी व अंतर्विरोध के परिणाम स्वरूप कांग्रेस सरकार को 34 दिन तक पांच सितारा होटल में कैद रहना पड़ा।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned