पॉलिटिकल फंडिंग पर खुलकर बोले गहलोत, कहा- 'ब्लैक मनी से चल रही सभी पार्टियां'

सीएम Ashok Gehlot राजनीतिक पार्टियों में Political Funding और Electoral Bonds के सन्दर्भ पर खुलकर बोले। उन्होंने किसी पार्टी का नाम लिए बगैर सभी दलों में होने वाली पॉलिटिकल फंडिंग को Black Money करार दिया।

By: Nakul Devarshi

Published: 08 Dec 2019, 11:42 AM IST

जयपुर/जोधपुर।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि सभी पॉलिटिकल पार्टियां चंदा लेती हैं और जो भी चंदा लिया जाता है वो ब्लैक मनी है। शनिवार को जोधपुर में राजस्थान हाईकोर्ट के नए भवन के उद्घाटन मौके पर सीएम गहलोत राजनीतिक पार्टियों में फंडिंग और इलेक्टोरल बॉन्ड के सन्दर्भ पर खुलकर बोले। उन्होंने किसी पार्टी का नाम लिए बगैर सभी दलों में होने वाली पॉलिटिकल फंडिंग को ब्लैक मनी करार दिया। कार्यक्रम में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस और देश के कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद भी मौजूद थे।

सीएम गहलोत ने कहा, 'जिस रूप में पॉलिटिकल बॉन्ड आ गए हैं, ये अपने आप में बहुत बड़ा स्कैंडल है। मैं चाहूंगा सीजेआई साहब कोई ऐसी पीआईएल फाइल हो या सुओ मोटो करो जिससे हमेशा के लिए ये व्यवस्था ख़त्म हो।'

उन्होंने कहा, 'मैं एक पॉलिटिकल पार्टी की बात नहीं कर रहा हूं, तमाम पॉलिटिकल पार्टियां चंदा जो लेती हैं, वो चंदा ब्लैक मनी है, दो नंबर का पैसा है। इसमें कोई दोराय नहीं है और उससे शुरूआत होती है सरकारें बनने की तो आप कल्पना कीजिए क्या होगा देश का।'

केंद्र सरकार की कार्यशैली को कटघरे में रखते हुए सीएम अशोक गहलोत ने कहा, 'इनकम टैक्स का छापा पड़ रहा है, सीबीआई का पड़ रहा है, ईडी पहुंच जाए अलग बात है। पूरे देश में क्या माहौल है। रविशंकर प्रसाद जी और सीजेआई साहब बैठे हुए है, राष्ट्रपति महोदय का सानिध्य हमें मिला है ऐसा मौका कभी नहीं आएगा। पॉलिटिकल पार्टियों की फंडिग जब तक दो नंबर के पैसों से बंद नहीं होगी तब तक बिना मतलब की करप्शन खत्म करने की बात करना बेकार है। कोई मायने नहीं रखता है, पूरा जो खेल है राजनीति का पूरा खेल वो टिका हुआ है, ब्लैकमनी पर। चाहे बॉन्ड हो, चाहे चेक हो या कैश।'

सीएम गहलोत बोले, 'आज मुझे 45 साल हो गए है राजनीति करते हुए और मैं देख रहा हूं, शुरूआत है राजनीतिज्ञों के चुनाव लड़ने की शुरुआत ही ब्लैकमनी से होती है, चंदा लेना दो नंबर के पैसे से ब्लैक मनी लेने से शुरूआत होती है। वो लोग कैसे ब्लैकमनी या करप्शन हटा सकते हैं। ब्लैक मनी लेकर चुनाव जीतकर जाएगा उससे देश कैसे उम्मीद करेगा? ज्यूडिशरी कैसे उम्मीद करेगी कि वो ट्रांसपेरेंसी के साथ में काम कर सके और करप्शन मिटा सके ये असंभव है जो आज देश में हो रहा है। क्या नहीं हो रहा है कल्पना नहीं कर सकते हैं आप।

Congress BJP
Show More
Nakul Devarshi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned