जूनियर स्तर पर भी विदेशी कोच से टे्रनिंग की योजना

भारतीय एथलेटिक्स महासंघ की कार्यकारी समिति की बैठक

By: satish

Published: 13 Sep 2021, 07:07 PM IST

जयपुर. भारतीय एथलेटिक्स महासंघ की सोमवार को यहां संपन्न कार्यकारी समिति की बैठक में कई एजेंडों पर चर्चा हुई। इसमें सबसे महत्वपूर्ण रहा जूनियर स्तर पर भी विदेशी कोच की सेवाएं लेना, जिस पर फैडरेशन ने योजना बना ली है और जल्दी ही इस पर कार्य शुरू कर दिया जाएगा। बैठक के बाद प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए महासंघ के अध्यक्ष आदिल सुमरिवाला ने कहा कि बैठक में ओलंपिक के प्रदर्शन पर चर्चा हुई और अगले साल होने वाली जूनियर विश्व चैंपियन, कॉमनवेल्थ गेम्स और एशियाई खेलों में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए रूपरेखा तैयार की गई है। बैठक में एएफआई प्लानिंग कमेटी के चेयरमैन ललित के भनोट, वरिष्ठ उपाध्यक्ष अंजू बॉबी जॉर्ज, सचिव रविन्दर चौधरी और कोषाध्यक्ष मधुकांत पाठक भी मौजूउ रहे।

री डिजाइन इंटर डिस्ट्रिक्ट मीट
सुमरिवाला ने कहा कि जूनियर प्रोग्राम के तहत आयोजित होने वाली नेशनल इंटर डिस्ट्रिक्ट मीट को री डिजाइन किया गया है। इसमें अंडर-१४ और अंडर-१६ के टूर्नामेंट आयोजित किए जाएंगे। ये टूर्नामेंट जोनल लेवल पर आयोजित होंगे। उन्होंने बताया कि यह ग्रासरूट प्रोग्राम है ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा और धावक हीमा दास ऐसे ही प्रोग्राम का परिणाम है।

पांच खेलों की स्पर्धाओं पर फोकस
सुमरिवाला ने बताया कि हम ऐसे खेलों पर फोकस कर रहे हैं जिसमें हम अपनी तकनीकी और प्रदर्शन को सुधार कर पदक ला सकते हैं। हम इन खेलों में कुछ ही अंतर से चूके हैं। इसमें ४०० मीटर दौड़, जैवेलियन, रेस वॉक, लांग जंप और ट्रिपल जंप की स्पधाएं हैं। इसमें शॉट पुट, डिस्कस थ्रो में भी विदेशी कोच की सेवाएं लेने की योजना है।

कोचिंग एफिलेशन प्रोग्राम पर जोर
सुमरिवाला ने बताया कि हम कोचिंग एफिलेशन प्रोग्राम पर जोर दे रहे हैं । इसमें बच्चे के पैरेंटस, स्कूल टीचर को शामिल किया जाएगा ताकि वे कोचिंग के बेसिक सीख सकें और बच्च्चे को तैयार कर सकें।

इसलिए जरूरत है विदेशी कोच की

एक सवाल के जवाब में एएफआई चेयरमैन ललित के भनोट ने बताया कि हमें विदेशी कोच की इसलिए जरूरत है क्योंकि वे खेलों की आधुनिक तकनीकी, इंजरी, नए इक्विपमेंट, नॉलेज, रिसर्च, एक्सपेरिमेंट्स और एथलीट टैलेंज ऑब्जरवेशन में देशी कोचेज से बेस्ट हैं। नीरज चोपड़ा मामले में भी इसी की बड़ी भूमिका रही। उन्होंने कहा कि हमारे कोच ओवर टे्रनिंग करते हैं जबकि खिलाड़ी को अंडर ट्रेनिंग की जरूरत होती है।

satish Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned