महाधिवक्ता, न्यायिक अधिकारी और आईपीएस आए आगे, कर्मचारी व धार्मिक संगठनों ने भी दी मदद

कोरोना से राहत के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोष में योगदान

जयपुर। कोरोना संक्रमण के खिलाफ जंग और प्रभावितों को मदद के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोष में आर्थिक सहायता के लिए बड़ी संख्या में लोग आगे आ रहे हैं। गुरुवार को महाधिवक्ता एम एस सिंघवी, न्यायपालिका से जुड़े न्यायिक अधिकारियों, आईपीएस एसोसिएशन समेत विभिन्न महकमों के कर्मचारी-अधिकारियों ने अपने वेतन से राशि कोष में दी। कई धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों ने भी योगदान के लिए हाथ आगे बढ़ाए हैं।
महाधिवक्ता एमएस सिंघवी और जयपुर व जोधपुर हाईकोर्ट के 18 एएजी सहित 136 राजकीय वकीलों ने अपना एक महीने की रिटेनरशिप फीस व अंशदान के तौर पर करीब 30 लाख रुपए की मदद मुख्यमंत्री सहायता कोष में देने की घोषणा की है।
आइपीएस एसोसिएशन ने सहायता कोष में पांच दिन का वेतन देने का निर्णय किया है। उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट की अपील पर ग्रामीण विकास व पंचायती राज विभाग के अधिकारी और कर्मचारी अपने एक दिन के वेतन के तौर पर करीब 3.25 करोड़ रुपए की सहायता देंगे। ऐसे ही सार्वजनिक निर्माण विभाग के कार्मिक एक दिन का वेतन कोविड-19 राहत कोष में देंगे।

न्यायिक अधिकारी देंगे एक दिन का वेतन

प्रदेश की न्यायपालिका से जुड़े 1300 न्यायिक अधिकारी एक दिन का वेतन मुख्यमंत्री सहायता कोष में देंगे। राजस्थान न्यायिक अधिकारी एसोसिएशन के अध्यक्ष रतनलाल मूण्ड ने इसकी घोषणा की है। एसोसिएशन करीबन 50 लाख रुपए सीएम फंड में जमा करेगी।

इन्होंने भी दी मदद

— ज्वैलर एसोसिएशन,जयपुर 51 लाख रूपए मदद करेगी। 21 लाख रूपए सीएम सहायता कोष में देंगे, जबकि 31 लाख रुपए की खाद्य सामग्री जरूरत मंदों में वितरित की जाएगी।

- मेहंदीपुर बालाजी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत किशोरपुरी ने 11 लाख रुपए का चैक दौसा कलक्टर को दिया।
- राजधानी शिल्प जयपुर ने प्रधानमंत्री सहायता कोष में 31 लाख रुपए तथा मुख्यमंत्री सहायता कोष में 21 लाख रूपए का चेक भेंट किया है।
- दिगम्बर जैन मंदिर जय जवान कॉलोनी ने मुख्यमंत्री सहायता कोष में 1 लाख रुपए का चैक दिया।

Pankaj Chaturvedi Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned