Audio Viral : सात दिन में टेस्ट नहीं तो... ...नहीं होगी ऑफिस में एंट्री


प्रमुख शासन सचिव का ऑडियो वायरल
कार्यालय में जमा करवानी होगी टेस्ट रिपोर्ट

By: Rakhi Hajela

Updated: 01 Dec 2020, 08:29 PM IST

सात दिन में टेस्ट नहीं करवाया तो ऑफिस में एंट्री नहीं दी जाएगी, इसलिए सभी कर्मचारियों को अपना कोविड टेस्ट करवाना होगा। यह निर्देश जारी किए हैं प्रमुख शासन सचिव कुंजीलाल मीणा ने एक ऑडियो के माध्यम से जो वायरल हो रहा है। सहकारिता, पशुपालन और कृषि विभाग के प्रमुख शासन सचिव कुंजीलाल मीणा इस ऑडियो में विभागीय
अधिकारियों को निर्देश दे रहे हैं कि विभाग के सभी जिलों के सभी कर्मचारी अपना कोविड टेस्ट करवाएं, वह भी सात दिन के भीतर। मीणा का यह ऑडियो विभागीय कार्मिकों के ग्रुपों में वायरल हो रहा है। इस ऑडियो में उन्होंने अपने पीए की मौत का भी हवाला दिया है। साथ ही सहकारिता विभाग के कार्मिकों की कोविड से हुई मौत के बारे में भी बताया है। साथ ही कोविड को गंभीरता से लेने की अपील की है।

क्या कुछ कहा ऑडियो में प्रमुख शासन सचिव में
जिले के सभी जिला, संभाग और मुख्यालय के पशु पालन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए जाते हैं कि कल ऑफिस खुलेगा, इस वीक में सभी कर्मचारी नजदीकी सीएससी, पीएसची में जाकर कोविड का टेस्ट करवाएं। बिना टेस्ट करवाए सात दिन बाद कोई कर्मचारी ऑफिस जॉइन नहीं करेगा। अधिकारी लिखित में यह निर्देश दें कि प्रमुख शासन सचिव के यह निर्देश हैं। यह बेहद सीरियस बीमारी है। कृषि विभाग में मेरे पीए की डेथ हो गई, सहकारिता विभाग में पांच लोगों की डेथ हो गई, सब अगले सात दिन बिना जांच रिपोर्ट किसी को ऑफिस अटैंड नहीं करने दें, इसलिए सभी को निर्देश दें दे कि सात दिन में सभी टेस्ट करवा लें। दो दिन में रिपोर्ट में आ जाती है, सरकार निशुल्क जांच कर रही है। सभी इसकी पालना करें और फिर मुझे इसकी रिपोर्ट भेजें।

खुद पॉजिटिव हैं मीणा
आपको बता दें कि प्रमुख शासन सचिव सहकारिता और पशुपालन कुंजीलाल मीणा के पीए की मौत पिछले दिनों कोविड के कारण हो चुकी है। खुद भी इन दिनों आइसोलेशन में हैं। उनकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। पशुपालन विभाग के पूर्व प्रमुख शासन सचिव डॉ. राजेश शर्मा को भी कोविड के कारण लंबे समय से अवकाश पर रहना पड़ा था। डॉ. राजेश शर्मा और उनकी पत्नी दोनों ही कोविड पॉजिटिव हुए थे और लंबे समय तक चले इलाज के बाद ठीक हो सके। विभाग के पीआरओ सोहनलाल की रिपोर्ट भी कुछ ही दिनों पूर्व निगेटिव आई है। पशुपालन विभाग में भी कर्मचारी लगातार पॉजिटिव आ रहे हैं। कई अधिकारी और कार्मिकों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने का असर विभाग के कामकाज पर भी पड़ा है।

आंजना भी आ चुके हैं कोविड की गिरफ्त में
वहीं सहकारिता विभाग की बात करें तो सहकारिता विभाग में पांच कार्मिकों की मौत कोविड से हो चुकी है। इतना ही नहीं सहकारिता मंत्री उदय लाल आंजना भी कोविड की गिरफ्त में आ चुके हैं। उनका इंदौर में इलाज चला था और हाल ही में उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई है।


इनका कहना है,
मैं खुद कोविड पॉजिटिव हूं इसलिए इस बीमारी की गंभीरता को अच्छे से समझता हूं। मैंने सहकारिता, कृषि और पशुपालन तीनों ही विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वह अपने सभी कार्मिकों को कोविड टेस्ट करवाने को कहें। सभी कार्मिकों को आगामी सात दिनों में टेस्ट करवाने होंगे।
कुंजीलाल मीणा, प्रमुख शासन सचिव।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned