ayurved hospital: अब हर दिन की ओपीडी एक हजार से ज्यादा

ayurved hospital: राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान के अस्पताल में बढ़ी ओपीडी
- आयुर्वेद से उपचार कराने वाले मरीजों की संख्या में हो रही बढ़ोतरी

By: Tasneem Khan

Published: 06 Oct 2021, 06:17 PM IST

ayurved hospital: कोरोना काल में आयुर्वेद उपचार का उल्लेखनीय योगदान को माना गया है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आयुर्वेद के काढे़ व संक्रमण कम करने के लिए अन्य दवाइयों के उपयोग का सकारात्मक परिणाम मिलने के बाद से लोगों का रूख आयुर्वेद की ओर बढ़ा है। इसका बड़ा उदाहरण है राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान के अस्पताल की ओपीडी में सुबह से पड़ती भीड़। मरीजों की लम्बी कतारें इतनी कि दोपहर दो बजे तक भी ओपीडी से डॉक्टर उठकर नहीं जा सकते। यहां हर मर्ज की दवा के लिए मरीज आने लगे हैं। पर्ची के लिए ही यहां सुबह भी परिजनों की भीड़ लगना शुरू हो जाती है। हर दिन यहां हजार से 1500 मरीजों की ओपीडी रहने लगी है। जबकि पोस्ट कोरोना काल में यहां मरीजों की संख्या 500 से 800 तक थी।

मौसमी बीमारियों के मरीज भी पहुंच रहे
पहले यहां पर ज्यादातर चर्म रोग, पेट के रोगों से से पीड़ित लोग इलाज के लिए आते थे। मौसमी बीमारियों को लेकर लोग एलोपैथी अस्पतालों का रूख ही करते थे। लेकिन अब खांसी, जुकाम, एलर्जी, बुखार के मरीज भी ओपीडी में इलाज ले रहे हैं। वहीं यहां जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों डायबिटीज, अनिद्रा का इलाज भी दिया जा रहा है। महिलाओं से संबंधित रोगों के लिए भी यहां विशेषज्ञ उपचार दे रहे हैं।
निशुल्क दवा भी
एलोपैथी अस्पतालों की तरह यहां पर भी दस रूपए की पर्ची में ही उपचार हो रहा है। ओपीडी में डॉक्टर की सलाह के बाद यहां वैद्यशाला से आयुर्वेद की दवाएं निशुल्क दी जाती हैं। लोग इस उपचार और निशुल्क दवा का भरपूर लाभ लेने लगे हैं।

यह सुविधाएं भी
अस्पताल में आईपीडी की सुविधाएं भी हैं। यहां पर योग, पंचकर्म से जुड़े सभी इलाज मरीजों को दिए जाते हैं।

इनका कहना है
अब ओपीडी बढ़ी है। लोग मौसमी बीमारियों के उपचार के लिए भी आने लगे हैं। आयुर्वेद को लेकर संस्थान की ओर से भी जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं। आयुर्वेद लोग दिनचर्या में अपनाएं तो कई बीमारियों से बचा जा सकता है।
डॉ. गोपेश मंगल, विशेषज्ञ, एनआईए

Tasneem Khan Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned