कमरदर्द की समस्या में राहत देंगे ये उपाय

मांसपेशियों की समस्या से राहत पाने के लिए कोल्ड या हीट थैरेपी का लाभ लिया जा सकता है

एक्यूपंक्चर थैरेपी
जर्नल स्पाइन में प्रकाशित एक स्टडी से समाने आया कि लो बैक पैन की समस्या को दूर करने में एक्यूपंक्चर प्रभावी थैरेपी है। ट्रेडिशनल चाइनीज मेडिसिन के अनुसार शरीर में ऊर्जा प्रवाह के बाधित होने से दर्द की समस्या होती है, जो एक्यूपंचर में सुइयों के उपयोग से ऊर्जा के अदृश्य रास्तों से खुल जाने से दूर हो जाता है। इस तरह बैक पैन में एक्यूपंक्चर लाभकारी होती है।

विटामिन डी लें
यदि शरीर में विटामिन डी की कमी है तो क्रॉनिक दर्द से आराम नहीं पाया जा सकता है। इसलिए विटामिन डी युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन के साथ ही यदि आवश्यकता है तो आप कुछ सप्लीमेंट का भी प्रयोग कर सकते हैं। सुबह कुछ समय के लिए धूप में बैठें। यह विटामिन डी लेने का सबसे अच्छा तरीका है।

एंटी इंफ्लेमेटरी
क्रॉनिक बैक पैन की समस्या से राहत पाने के लिए एंटी इंफ्लेमेटरी हब्र्स का सेवन किया जा सकता है। इसमें व्हाइट विल्लो बार्क हर्ब सबसे ्रप्रभावी है। इस हर्ब में एस्प्रिन के समान दर्द निवारण गुण होता है। इसमें पाया जाने वाला सैलिसिन कंपाउंड दर्द दूर करने में बहुत ही प्रभावी होता है।

मैग्नीशियम
मैग्नीशियम शरीर के एक महत्त्वपूर्ण मिनरल्स में से एक है। यह शरीर में ३०० तरह की बायोकैमिकल्स रिएक्शन के लिए जरूरी होता है। यह मसल्स एवं नर्व फंक्शन के कार्यों के लिए भी आवश्यक होता है। इम्यून सिस्टम को हेल्दी रखने और हड्डियों के लिए भी यह मिनरल जरूरी है। इसलिए बैक पैन की समस्या से राहत पाने के लिए इस मिनरल पर विशेष ध्यान दें।

विटामिन बी १२
लंबे समय से आप बैक पैन की समस्या से परेशान हैं तो इसके पीछे विटामिन बी१२ की कमी भी हो सकती है। कुछ तरह के अध्ययनों से सामने आया कि मांसपेशियों में दर्द की समस्या से राहत पाने के लिए विटामिन बी१२ से भरपूर खाद्य पदार्थ कारगर हो सकते हैं। इसके अलावा बॉडी के बैलेंस को मेंटेन करने एवं लचीलापन बढ़ाने के लिए योग भी किया जा सकता है। परंतु योग चिकित्सक की सलाह के बाद ही करें।

मेडिटेशन
माइंड और बॉडी को रिलैक्स करने के लिए मेडिटेशन लाभकारी होगा। एक छोटे अध्ययन से सामने आया कि मेडिटेशन क्रॉनिक पैन को मैनेज करता है। पैन जर्नल में प्रकाशित एक स्टडी के अनुसार क्रॉनिक बैक पैन से परेशान जिन लोगों ने आठ सप्ताह तक मेडिटेशन किया, उनमें दर्द के लक्षणों में काफी कमी देखी गई। इस तरह मेडिटेशन दर्द से राहत देने में कारगर हो सकती है। साथ ही माइंड भी रिलैक्स रहता है।

म्यूजिक थैरेपी है कारगर
शारीरिक पीड़ा दूर करने के लिए म्यूजिक थैरेपी सबसे आसान नेचुरल थैरेपी है। कुछ अध्ययनों से सामने आया कि म्यूजिक थैरेपी से क्रॉनिक पैन की वजह से होने वाली डिसएबिलिटी, एंजाइटी और डिप्रेशन जैसी समस्या को दूर किया जा सकता है। दरअसल, म्यूजिक सुनने से आपका ध्यान कहीं और लगता है और शरीर में अच्छे हार्मोंस का स्तर भी बढ़ता है।

Archana Kumawat Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned