बार कौंसिल के अधिकारों में कटौती, वकील करेंगे राज्यव्यापी आंदोलन

बार कौंसिल के अधिकारों में कटौती, वकील करेंगे राज्यव्यापी आंदोलन

Jyoti Patel | Publish: Sep, 12 2018 09:08:29 AM (IST) | Updated: Sep, 12 2018 10:18:57 AM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

जयपुर. बार कौंसिल के अधिकारों में कटौती के विरोध में बार कौंसिल ऑफ इंडिया के आह्वान पर वकील 17 सितम्बर को राज्यव्यापी आंदोलन करेंगे।ओस आंदोलन के तहत बार एसोसिएशन विरोध की रणनीति तय करेगी और राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिए जाएंगे। राजस्थान बार कौंसिल के अध्यक्ष सुशील शर्मा ने जानकारिओं देते हुए मंगलवार को मीडिया को बताया कि अधिवक्ता अधिनियम में संशोधन कर केन्द्र सरकार विधि महाविद्यालयों के सुपरविजन के बार कौंसिल के अधिकार वापस लेना चाहती है।

वकीलों पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जिम्मेदारी भी बार कौंसिल के बजाय सेवानिवृत्त न्यायाधीशों को देने की तैयारी की जा रही है। वकीलों पर कार्रवाई के लिए कोर्ट को नियम बनाने का अधिकार और वकीलों के हड़ताल करने पर पाबंदी सम्बन्धी प्रावधान का भी विरोध किया जाएगा। साथ ही अधिवक्ता संरक्षण अधिनियम लाने व अधिवक्ताओं की समस्याएं दूर करने के लिए सुविधाएं मुहैया कराने की मांग की जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा की अगर हमारी मांगें नहीं मानी गई तो देशभर के वकील अक्टूबर में लोकसभा का घेराव करेंगे।

Read more : राजस्थान की इस प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी में रात 2 बजे तक हुई री-काउंटिंग, आया चौंकाने वाला नतीजा, सवा दो बजे दिलाई शपथ

Read more : CM राजे बोलीं- 'छात्रसंघ चुनाव के नतीजे विधानसभा-लोकसभा चुनाव के लिए स्पष्ट संकेत, जारी रहेगा विजय क्रम'

Read more : पीएम मोदी ने बारां की एएनएम रुकसाना को दी बधाई और डाक्टरों का किया आभार व्यक्त - देखें वीडियो रिपोर्ट

Read more : छात्रसंघ चुनाव: कॉमर्स कॉलेज, राजस्थान कॉलेज, महारानी कॉलेज और लॉ कॉलेज में इन्होंने हासिल की जीत

Read more : बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए पिता ने उठाया यह कदम, बिन्नी की डायरी को किया सार्वजनिक, आए चौंकाने वाले खुलासे

Read more : छात्रसंघ चुनाव RESULTS 2018 : राजस्थान छात्रसंघ चुनावों में कहां कौन जीता? यहां देखें किसका रहा पलड़ा भारी

Read more : संकल्प रैली: भाजपा का झूठ नहीं चलेगा जनता के सामने: सचिन पायलट

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned