...क्योंकि 'भगवान' वोट नहीं डालते

...क्योंकि 'भगवान' वोट नहीं डालते

rajesh walia | Publish: Jun, 14 2018 08:09:24 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

-राजनीति भी चमकाई, बयानबाजी भी हुई लेकिन पांच मूर्ति मंदिर की स्थिती नहीं बदली


जयपुर। चुनावी साल में वोटरों को लुभाने के लिए प्रशासन ने अपने खजाने का मुंह खोल दिया है। सालों से उजाड़ पड़ी गलियों, सड़कों के साथ स्मार्ट प्रोजेक्ट भी रोज नया आकार ले रहा है। लेकिन गंगापोल गेट क्षेत्र के सैयद कॉलोनी की रहीम कॉलोनी में बने पांच मूर्ति हनुमान मंदिर की दुर्दशा आज भी वैसी ही है। २१ जनवरी को राजस्थान पत्रिका में इस मंदिर की कचरे से अटी तस्वीरें छपने के बाद सामाजिक एवं धार्मिक संगठनों ने भी प्रशासन और देवस्थान विभाग को आड़े हाथों लिया था। लेकिन उनका ध्यान हटते ही अब मंदिर फिर से वीरान और खण्डहर पड़ा है। आस-पास के लोगों ने बताया कि मंदिर पर स्टे लगा हुआ है। इसलिए यहां कोई भी गतिविधी नहीं होती।


मंदिर में डाल रहे कचरा
खाली वीरान जगह देखकर लोग इसे डम्पिंग यार्ड बना रहे हैं। मंदिर में चार से पांच फीट तक कचरे का ढेर लगा हुआ है। मंदिर में हनुमान जी की विभिन्न मुद्राओं में पांच मूर्तियां हैं जो पूरी तरह से खंडित हो चुकी हैं। मंदिर के अंदर बने कमरे और पूजा स्थल भी जीर्ण-शीर्ण अवस्था में हैं। कचरे से अटे पड़े मंदिर में श्वान और बिल्लियों का राज है। जानकारों की मानें तो ये सभी मूर्तियां काफी पुरानी और जयपुर बसने से पहले की हैं।


परिवाद भी हुआ था दर्ज
मंदिर की ऐसी दुर्दशा देखकर धरोहर बचाओ समिति के भारत शर्मा ने अपने कार्यकर्ताओं के साथ मंदिर पहुंचकर साफ-सफाई कर पूर्जा अर्चना भी की थी। साथ ही उन्होंने मंदिर के जिम्मेदार लोगों के विरुद्ध गलता थाना में परिवाद भी दर्ज करवाया था। लेकिन आश्वासन और व्यवस्था सुधारने के दावों के बीच हकीकत यही है कि भगवान के इस मंदिर की फिक्र न तो प्रशासन को है न ही मंदिर का मालिकाना हक रखने वाले जिम्मेदारों को। चुनावी साल में भी प्राचीन मंदिर की ऐसी दुर्दशा शायद इसलिए है कि भगवान वोट नहीं डालते।



मंदिर मामले में तत्कालीन गलता थानाधिकारी ने हमें आश्वासन दिलाया था कि मंदिर की सार-संभाल करवाई जाएगी। मंदिर की ऐसी दुर्दशा के बारे में मुझे जानकारी नहीं थी। अगर मंदिर की सार-संभाल नहीं हो रही है तो जल्दी ही इसके लिए प्रयास करेंगे।
भारत शर्मा, धरोहर बचाव समिति

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned