Best Supporting Actor Female Awards जयपुर की निकिता को

निकिता ने बताया कि शाहिद कबीर निर्देशित फिल्म उन्माद गाय के नाम पर राजनीति कर लोकतंत्र में रोटियां सेकने वालों को सच का सामना कराती है।

जयपुर ( Jaipur ) शहर की निकिता विजयवर्गीय को फिल्म 'उन्माद' के लिए उत्तर प्रदेश में शहीद मेला फिल्म फेस्टिवल ( film festival ) में बेस्ट एक्टर सपोर्टिंग फीमेल ( Best Supporting Actor ) का अवॉर्ड मिला। इस फिल्म को बेस्ट फिल्म और इसके डायरेक्टर शाहिद कबीर को बेस्ट डायरेक्टर क्रिटिक का भी अवॉर्ड मिला है।

निकिता ने बताया कि शाहिद कबीर निर्देशित फिल्म उन्माद गाय के नाम पर राजनीति कर लोकतंत्र में रोटियां सेकने वालों को सच का सामना कराती है। कुछ असामाजिक लोगों और मीडिया की ओर से गाय के नाम पर तथाकथित झूठ फैलाया जा रहा है। इससे समाजों के बीच टकराव की स्थिति पैदा हो जाती है। इस फिल्म में मेरा किरदार सौहार्दपूर्ण वातावरण स्थापित करता है।
निकिता ने इससे पहले मुंबई में अपना कैरियर की शुरुआत थियेटर से की। कई टी.वी धारावाहिकों में काम किया है। रंगमंच पर 'सिहांसन खाली हैं', 'गांधी ने कहा था', 'कोर्ट मार्शल', ( Drama court marshal ) 'खामोश अदालत जारी है', जैसे कई नाटकों में अहम किरदार निभाए है।

रंगमंच पर भी उन्हें बेस्ट एक्टिंग का अवॉर्ड मिला है। साथ ही राजस्थान फिल्म फेस्टिवल में शॉर्ट फिल्म 'कसक' के लिए बेस्ट एक्ट्रेस अवॉर्ड मिल चुका है। निकिता की एक और शॉर्ट फिल्म डेस्टिनी के लिए इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में बेस्ट यंग एक्ट्रेस अवॉर्ड मिला था।

surendra kumar samariya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned