97वीं जन्म जयंती पर याद किये जा रहे ‘बाबोसा’, दोहिते ने नाना की याद में किया भावुक पोस्ट

पूर्व उपराष्ट्रपति स्वर्गीय भैरोंसिंह शेखावत की जयंती आज, भाजपा सहित अन्य दल के नेता-कार्यकर्ता भी कर रहे याद, कोरोनाकाल के कारण जयपुर में मुख्य श्रद्धांजलि सभा स्थगित, सोशल मीडिया के ज़रिये दी जा रही श्रद्धांजलि, दोहिते अभिमन्यू ने पोस्ट किया भावुक मैसेज, नाना के साथ की एक पुरानी तस्वीर को किया शेयर

 

By: nakul

Published: 23 Oct 2020, 08:41 AM IST

जयपुर।

देश के 11 वें उपराष्ट्रपति और राजस्थान के तीन बार मुख्यमंत्री का गौरव हासिल करने वाले नेता दिवंगत भैरोंसिंह शेखावत की आज 97 वीं जन्म जयंती है। भारतीय जनता पार्टी के साथ ही अन्य राजनीतिक दलों के नेता-कार्यकर्ता भी आज उनके व्यक्तित्व और कृतित्व को याद कर रहे हैं। सोशल मीडिया के ज़रिये कई नेताओं का उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित करने का सिलसिला जारी है।

गौरतलब है कि शेखावत का जन्म वर्ष 1923 को आज ही के दिन तत्कालीन जयपुर रियासत के गाँव खाचरियावास में हुआ था। यह गाँव अब सीकर जिले में है।

श्रद्धांजलि सभा में ‘कोरोना’ ने लगाया ब्रेक
शेखावत की जन्म जयंती इस बार कोरोना संकटकाल के बीच आई है। यही कारण है की इस बार जयपुर के विद्याधर नगर स्थित उनके समाधि स्थल पर श्रद्धांजलि सभा को स्थगित किया गया है। इस सभा में विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता और गणमान्य लोग पहुंचकर उन्हें श्रध्हासुमन अर्पित करते थे।

दोहिते ने किया नाना को याद
दिवंगत शेखावत को जहां देशभर के भाजपा नेता-कार्यकर्ता याद कर रहे हैं, वहीं उनके पारिवारिक सदस्य भी उनके साथ बिताये पलों को याद कर रहे हैं। कुछ ऐसा ही नज़र आया भैरोंसिंह शेखावत के दोहिते अभिमन्यू सिंह राजवी के एक सोशल मीडिया पोस्ट में। अभिमन्यू ने अपने नाना के साथ की एक पुरानी तस्वीर को शेयर करते हुए बहुत ही भावुक सन्देश लिखा। उन्होंने लिखा, ‘काश मैं आज भी भागके आपके पास आकर ज़ोर से कह पाता... Happy Birthday Nanosa...’

सोशल मीडिया बना श्रद्धांजलि का प्लेटफॉर्म
कोरोना संकटकाल होने के कारण इस बार स्वर्गीय भैरोंसिंह शेखावत की जन्म जयंती पर कोई बड़ा आयोजन नहीं रखा गया है। विभिन्न दलों के नेता-कार्यकर्ता उन्हें सोशल मीडिया के ज़रिये ही श्रद्धांजलि देकर उन्हें याद कर रहे हैं। श्रद्धांजलि सन्देश का ये सिलसिला आज सुबह से ही शुरू हो गया।

‘बाबोसा’ जीवनकाल- एक नज़र...
भैरोंसिंह शेखावत का जन्म 23 अक्टूबर 1923 को खाचरियावास गांव में पिता देवी सिंह शेखावत और माता बन्ने कँवर के घर पर हुआ। गाँव की पाठशाला में अक्षर-ज्ञान प्राप्त किया, जिसके बाद हाई-स्कूल की शिक्षा गाँव से तीस किलोमीटर दूर जोबनेर से प्राप्त की। वे घर से स्कूल तक का फासला पैदल ही तय करते थे।

हाई स्कूल करने के बाद उन्होंने जयपुर के महाराजा कॉलेज में दाखिला लिया ही था कि पिता का देहांत हो गया और परिवार के आठ लोगों के भरण-पोषण का भार उन्हीं के कंधों पर आ गया। यही कारण रहा कि किशोर अवस्था में ही उन्हें हल हाथ में थामकर खेती करनी पड़ गई। वक्त बीतने के साथ ही शेखावत ने पुलिस की नौकरी भी की। मन नहीं लगा तो त्यागपत्र देकर वापस खेती करने लगे।

स्वतंत्रता-प्राप्ति और लोकतंत्र की स्थापना के बाद जब राजस्थान में वर्ष 1952 में विधानसभा की स्थापना हुई तब शेखावत ने भी भाग्य आजमाया और विधायक बन गए। फिर उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा और सीढ़ी-दर-सीढ़ी चढ़ते हुए विपक्ष के नेता, मुख्यमंत्री और उपराष्ट्रपति पद तक पहुंचे।

Show More
nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned