सिपाही के खाते से 6 दिन में 34 ट्रांजेक्शन, इतने लाख साफ... सबसे बड़े बैंक ने एक मैसेज तक नहीं भेजा

इस बीच इस महीने की दस तारीख से 15 तारीख के बीच कमलेश के खाते से 5 हजार रुपए से लेकर 25 हजार रुपए तक के ट्रांजेक्शन किए गए। 34 ट्रांजेक्शन हुए जो सभी यूपीआई के जरिए हुए।

By: JAYANT SHARMA

Published: 20 Feb 2021, 12:55 PM IST

जयपुर
बेटियों की शादी के लिए कांस्टेबल ने #SBI-Bank एसबीआई बैंक से #Bank-loan लोन क्या लिया चैन ही छिन गया। #Marriage शादी के लिए रकम लेने के बाद जब किश्तें चुकाना शुरु किया तो इस बीच यूपीआई के जरिए ठगों ने खाते से पांच लाख रुपए निकाल लिए। तीस से पैंतीस बार में ये रुपए निकाले गए लेकिन बड़ी बात ये रही कि एक बार भी बैंक की ओर से रुपए निकाले जाने का मैसेज नहीं आया। बाद में जब बैंक जाकर इस बारे में पता किया गया तो बैंक अफसरों ने हाथ उंचे कर दिए। पीड़ित कांस्टेबल ने पुलिस से संपर्क किया और उसके बाद बनीपार्क #Jaipur-police थाने में मुकदमा दर्ज कराया।

छह दिन में 34 ट्रांजेक्शन, बैंक या अन्य कोई एप कभी यूज नहीं किया
रिजर्व पुलिस लाइन जयपुर में तैनात #Constable कांस्टेबल कमलेश के साथ यह ठगी की घटना हुई। उनका खात पीतल फैक्ट्री स्थित #SBI-Branch एसबीआई की ब्रांच में है। दो बेटियों की शादी के लिए बारह लाख रुपए बैंक से लोन लिया। कुछ पैसा खाते में था। बैंक लोन की करीब 72 किश्तें बनी जो करीब 24 हजार रुपए महीने की थीं। किश्तें जमा होना शुरु हुई लेकिन इस बीच इस महीने की दस तारीख से 15 तारीख के बीच कमलेश के खाते से 5 हजार रुपए से लेकर 25 हजार रुपए तक के ट्रांजेक्शन किए गए। 34 ट्रांजेक्शन हुए जो सभी #UPI यूपीआई के जरिए हुए। जबकि कमलेश ने बैंक या अन्य किसी तरह का कोई भी एप मोबाइल में कभी यूज नहीं किया। बैंक को इस बारे में बताया तो बैंक अफसरों ने पुलिस के पास जाने की सलाह दे डाली। कमलेश ने बताया कि सारा पैसा यूपीआई के जरिए निकाला गया और करीब एक लाख रुपए वापस भी डाला गया है। लेकिन एक भी ट्रांजेक्शन का बैंक के जरिए मैसेज नहीं आया। जबकि इससे पहले जो भी ट्रांजेक्शन होते थे उस बारे में बैंक के जरिए मैसेज आता था। ठगी की इस बड़ी वारदात ने शादी की खुशियों को भी ग्रहण लगा दिया है।

Show More
JAYANT SHARMA Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned