खुशखबरी : बीसलपुर के पानी ने जयपुर आमेर का बढ़ाया जलस्तर, कुएं और बावड़ियां लगी छलकने

मावठा में बीसलपुर का पानी आया तो कुएं बावडिय़ों में पानी छलकने लगा

अजय सोलोमन / जयपुर। अच्छी वर्षा के बाद आमेर ( Amber ) का मावठा ( Mawtha ) सरोवर भले ही नहीं भरा हो मगर अब बीसलपुर ( Bisalpur ) से मावठा में छोड़े जा रहा जल भूगर्भ की जल धाराओं से सूखी बावडिय़ों और कुओं को जल से छलका रहा है। पुरातत्व विभाग ( Archeology Department ) ने नाव चलाकर मावठा के जल में एकत्र हुई प्लास्टिक आदि के कचरे को निकाल सफाई करने का काम भी शुरु कर रखा है।


बीसलपुर बांध के अतिरिक्त जल को एक महीने से आमेर के मावठा में डाला जा रहा है। पर्यटकों के मुख्य आकर्षण रहे मावठा को दिसम्बर तक जल से लबालब करने की योजना है। इसके तहत आमेर तक बिछाई गई पुरानी पेयजल लाइन से मावठा को भरा जा रहा है। पाइप लाइन से मावठा में जा रहा जल भूगर्भ की पौराणिक जल धाराओं से आमेर के पुराने कुओं और बावडिय़ों को भी भरने लगा है।

-आमेर में छीला की बावड़ी,नाकू की बावड़ी सहित एक दर्जन सूखी बावडिय़ों के अलावा तहसील व दलाराम बाग के कुओं में पानी छलक गया है। जलदाय विभाग के अधिकारियों ने बताया कि अकबरी मस्जिद, वन तालाब से कुंडा तक के इलाके में बने सभी जल स्त्रोतों में पानी आ रहा है।


-मावठा में रोजाना शाम को 6 बजे से रात को 12 बजे तक बीसलपुर का 15 लाख लीटर पानी डाल रहें हैं। दिसम्बर तक मावठा को भरने की योजना है। मावठा के पानी से कुएं बावडिय़ों में पानी आने लगा हैं।

निशा शर्मा,अधिशांषी अभियंता, जलदाय विभाग

- मावठा के पानी से भूगर्भ का जलस्तर बढ़ रहा है। बंद पड़े नलकूपों में पानी आने लगा है।
अजीत सिंह यादव, कनिष्ठ अभियंता

pushpendra shekhawat
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned