बीसलपुर बांध ने बढ़ाई जलदाय विभाग की चिंता

बीसलपुर बांध ने बढ़ाई जलदाय विभाग की चिंता

Ashish sharma | Publish: Sep, 03 2018 08:46:25 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

बीसलपुर बांध ने बढ़ाई जलदाय विभाग की चिंता

जयपुर

जयपुर, अजमेर और टोंक जिले की लाइफलाइन माने जाने वाले बीसलपुर बांध का जलस्तर चिंता के कगार पर बना हुआ है। जयपुर के साथ कई जिलों में जहां बारिश हो रही है, वहीं बीसलपुर बांध के जलग्रहण क्षेत्र में पर्याप्त बारिश के अभाव में बांध के जलस्तर में खास बढ़ोतरी नहीं हो पा रही है। रविवार की तुलना में सोमवार को बांध का जलस्तर बढ़ने की बजाय 1 सेंटीमीटर कम और हो गया। आपको बता दें कि बीसलपुर बांध की भराव क्षमता 315.50 आरएल मीटर है। रविवार को बांध में जलस्तर 309.26 आरएल मीटर था जो कि सोमवार को एक सेंटीमीटर घट गया।
बांध में सोमवार शाम को जलस्तर 309.25 आरएल मीटर था। बीसलपुर बांध जयपुर के साथ ही अजमेर और टोंक जिले में पेयजल आपूर्ति का मुख्य स्त्रोत है। जयपुर में बांध से पहले हर रोज 44 करोड़ लीटर पानी पेयजल आपूर्ति के लिए लिया जा रहा था लेकिन बांध में पानी की पर्याप्त आवक नहीं होने के कारण पेयजल में कटौती की गई है। अभी जयपुर शहर में आपूर्ति के लिए बांध से प्रतिदिन करीब 35 करोड़ लीटर पानी लिया जा रहा है। इस बार बांध के जलग्रहण क्षेत्र में पर्याप्त बारिश नहीं होने से बांध में अपेक्षा के अनुरूप पानी नहीं आ पाया है। ऐसे में जलदाय विभाग की चिंताएं बढ़ी हुई हैं।

वैकल्पिक इंतजामों में जुटा जलदाय विभाग
जयपुर, अजमेर और टोंक की लाइफलाइन माने जाने वाले बीसलपुर बांध में बारिश के पानी की पर्याप्त आवक नहीं होने से पेयजल आपूर्ति में कटौती की जा रही है। इसके साथ ही जयपुर शहर मे पेयजल उपलब्ध करवाने के लिए जलदाय विभाग अपने बंद पड़े हुए 273 ट्यूबवैलों को सही करवाने में जुट गया है। विभाग ने इन ट्यूबवैलों को सही करवाने के लिए टेंडर आमंत्रित किए हैं। इन ट्यूबवैलों को चालू करवाने के लिए करीब पांच करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। ताकि इन्हें चालू करवाकर इनसे पेयजल की आपूर्ति की जा सके। आपको बता दें कि नौ साल में पहली बार बीसलपुर बांध में बारिश के पानी की पर्याप्त आवक नहीं होने से जलदाय विभाग पेयजल आपूर्ति में कटौती की जा रही है। जयपुर शहर में लोगों को रोजाना 15 से 20 मिनट तक कम पानी मिल रहा है। बांध में पानी की पर्याप्त आवक नहीं होने से जलदाय विभाग पानी के वैकल्पिक इंतजामों में जुटा हुआ है। करीब 4 करोड़ 90 लाख रुपए की लागत से पिछले कई सालों से बंद पड़े ट्यूबवैलों को चालू करवाया जाएगा। उम्मीद जताई जा रही है कि टेंडर प्रक्रिया पूरी होने के बाद इसी माह से ट्यूबवैलों को ठीक करने का काम शुरू हो जाएगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned