राज्यसभा चुनाव प्रत्याशी चयन के लिए भाजपा-कांग्रेस ने शुरू की मशक्कत

तीन सीटों पर 26 मार्च को होना है मतदान, दोनों पार्टियों में दावेदारों की लंबी फेहरिस्त

By: Umesh Sharma

Published: 07 Mar 2020, 01:39 PM IST

जयपुर।

प्रदेश में राज्यसभा की तीन सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई है। कांग्रेस और भाजपा दोनों ही पार्टियों ने टिकटों को लेकर मशक्कत शुरू कर दी है। वहीं दावेदारों ने भी जयपुर से लेकर दिल्ली तक राजनीतिक गोटियां बैठाना शुरू कर दिया है।

तीन सीटों पर 26 मार्च को मतदान होगा। विधानसभा सदस्य संख्या के आधार पर इसमें दो सीटों पर कांग्रेस और एक सीट पर भाजपा की जीत तय मानी जा रही है। दोनों ही पार्टियों में दावेदारों की लंबी फेहरिस्त है। ऐसे में दोनों ही पार्टियों को प्रत्याशी चयन में मशक्कत करनी पड़ेगी। वर्तमान में इन तीनों सीटों पर भाजपा के विजय गोयल, नारायण पंचारिया और रामनारायण डूडी का कब्जा है।

पांडे, सूरजेवाला सहित कई नाम

प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद राज्यसभा की एक सीट पर चुनाव हो चुका है। इसमें पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह चुनकर राज्यसभा पहुंचे हैं। तीन सीटों की बात की जाए तो कांग्रेस के दो सीटों पर प्रत्याशी उतारने की संभावना है। इन दो सीटों के लिए कई नाम सामने आ चुके हैं। इसमें कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे भी शामिल हैं। पांडे के अलावा एआईसीसी प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला, भंवर जितेन्द्र सिंह, राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव वल्लभ, राजीव अरोड़ा, पूर्व राज्यसभा सांसद अश्क अली टांक सहित कई नेताओं के नाम की चर्चा है। इसी तरह सामाजिक कार्यकर्ता रामसिंह कस्वां भी दावेदार बताए जा रहे हैं। कई नेताओं का तर्क है कि जो लोग लोकसभा और विधानसभा चुनाव हार चुके हैं, उन्हें राज्यसभा नहीं भेजा जाना चाहिए।

गुपचुप जयपुर आए, क्या विजय गोयल होंगे उम्मीदवार!

भाजपा की बात की जाए तो यहां भी दावेदारों की लंबी सूची है। इसमें वर्तमान सांसद विजय गोयल और नारायण पंचारिया का नाम शामिल है। विजय गोयल पिछले दिनों गुपचुप तरीके से जयपुर आए और प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां, महामंत्री संगठन चंद्रशेखर सहित भाजपा मुख्यालय पर कई नेताओं से मुलाकात की। उनकी जयपुर यात्रा को टिकट से जोड़कर देखा जा रहा है। इसी तरह नारायण पंचारिया संघ की पहली पसंद है और संघ की ओर से उनका नाम आगे किया जा रहा है। वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री सी.आर. चौधरी को भी टिकट देने की मांग की जा रही है। नागौर का एक प्रतिनिधिमंडल इस संबंध में सतीश पूनियां से मिल भी चुका है। इनके अलावा पूर्व प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी, पूर्व मंत्री अरुण चतुर्वेदी के नाम भी चर्चा में हैं।

केंद्र को भेजे जा चुके हैं नाम

बताया जा रहा है कि पार्टी की ओर से केंद्रीय नेतृत्व को पांच नाम भेजे जा चुके हैं। इस बार पूनियां यह कह चुके हैं कि अब तक राज्यसभा सांसदों से प्रदेश को कोई राजनीतिक लाभ नहीं मिला है। इसलिए केंद्र से मांग करेंगे कि प्रत्याशी उसे बनाए, जिससे प्रदेश को कुछ लाभ हो सके।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned