राजस्थान: विरोधियों के निशाने पर सीएम गहलोत, जानें पूनिया-राठौड़ से लेकर गजेन्द्र-बेनीवाल तक क्या बोले?

प्रदेश में फिर उठा रहा बिगडती कानून व्यवस्था का मुद्दा, एक के बाद एक प्रकरणों के बाद फिर गरमाई राजनीति, राज्य के नेताओं से लेकर सांसदों ने भी उठाये सवाल- लगाए आरोप, प्रदेश के गृह मंत्री का जिम्मा संभाल रहे हैं मुख्यमंत्री

 

By: nakul

Published: 20 Sep 2020, 09:32 AM IST

जयपुर।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत प्रदेश की कानून व्यवस्था के मामले में एक बार फिर विरोधियों के निशाने पर हैं। भाजपा नेता तो एक साथ मिलकर ‘हल्ला’ बोलते हुए उन्हें चौतरफा घेरने की कोशिश में लगे हैं। इनमें राज्य से लेकर केंद्र में जिम्मा संभाल रहे नेता शामिल हैं। गौरतलब है कि सीएम गहलोत गृह विभाग के भी मुखिया हैं, ऐसे में वे अक्सर विरोधियों के निशाने पर रहते हैं।

‘जनता त्रस्त, अपराधी मस्त और सरकार अस्त-व्यस्त’: पूनिया
प्रदेश भाजपा अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया ने बिगडती कानून व्यवस्था का आरोप लगाते हुए मुख्यमंत्री की कार्यशैली को कटघरे में रखा है। उन्होंने मीडिया में आई कई खबरों का हवाला देते हुए कहा है कि मौजूदा समय में जनता त्रस्त हैं, अपराधी मस्त हैं और सरकार अस्त-व्यस्त है।

पूनिया ने कहा कि माफिया राज ने प्रदेश में हाहाकार मचा रखा है। बजरी माफिया, ड्रग माफिया और ब्याज माफिया से अपराध चरम पर है। आरोप लगाते हुए उन्होंने सरकार और जनता से सवाल किया, ‘क्या ऐसे ही प्रदेश हमने हमारे अपनों एवं बच्चों के लिए चाहा था?’

‘माफियाओं के खिलाफ अध्याधेश लाए सरकार’: राठौड़
विधानसभा में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने जयपुर में हुई घटना का ज़िक्र करते हुए सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि राज्य में हर तरफ माफिया बेखौफ हैं। सूदखोर माफियाओं के आतंक से लगातार आत्महत्याओं की श्रृंखला सरकार पर कलंक है। राठौड़ ने सरकार से ब्याज माफियाओं पर अंकुश लगाने के लिए कारगर कार्रवाई करने और इस सम्बन्ध में अध्यादेश लाने की मांग की है।

‘प्रदेश की शासन व्यवस्था हुई लचर’: गजेन्द्र सिंह
जोधपुर सांसद व केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने राज्य में बिगडती कानून व्यवस्था के गंभीर मुद्दे पर मुख्यमंत्री की चुप्पी पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि अलवर ज़िले में 45 वर्षीया महिला के साथ घटित सामूहिक दुष्कर्म के घृणित कृत्य ने राज्य को शर्मसार किया है। यह प्रदेश की लचर हो चुकी शासन व्यवस्था की सच्चाई है।

सांसद ने कहा कि अपनी सभ्यता पर गर्व करने वाले राजस्थान पर गहलोत सरकार के शासन में हो रहा नैतिक ह्रास चिंता का विषय है, लेकिन राज्य के मुख्यमंत्री ऐसे गंभीर मुद्दों पर चुप्पी साधे हुए हैं। शेखावत ने पूछा कि क्या राज्य के मुखिया की जनता के प्रति कोई जवाबदेही नहीं है?

‘बढ़ते अपराध सरकार-पुलिस कार्यशैली पर सवाल’: बेनीवाल
नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने सरकार की कार्यशैली को आढे हाथ लिया। अपनी प्रतिक्रिया में बेनीवाल ने कहा कि प्रदेश के अलवर जिले में थानागजी के बाद फिर एक प्रकरण सामने आया है। इस तरह के अपराध सरकार की कार्यशैली व पुलिस की कार्यशैली पर बड़ा सवाल है।

Show More
nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned