राजस्थान: भारतीय सेना में यादव रेजिमेंट के गठन की उठने लगी आवाज़, जानें क्यों बताई जा रहीं है ज़रुरत

- भारतीय सेना में यादव रेजिमेंट गठन की मांग, भाजपा विधायक ने रक्षा मंत्री को लिखा पत्र, यादव समाज की वीरता-युद्ध कौशल का किया ज़िक्र, अलग रेजिमेंट गठन को लेकर दी कई दलीलें, समाज की भावनाओं के हित में अग्रिम कार्यवाही करने की अपील

 

By: nakul

Updated: 26 Aug 2020, 03:28 PM IST

जयपुर।

भारतीय सेना में एक पृथक यादव रेजिमेंट के गठन की मांग उठने लगी है। समाज की वीरता और युद्ध कौशल सहित कई तरह की दलीलों का हवाला देते हुए सेना में समाज की अलग से रेजिमेंट बनाए जाने की अपील की जा रही है। भाजपा विधायक रामलाल शर्मा ने तो इस मांग को पुरजोर तरीके से उठाते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र भी लिखा है।

‘साहस-शौर्य का दिया परिचय, किये प्राण न्यौछावर’
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को लिखे पत्र में विधायक रामलाल शर्मा ने लिखा कि यदुवंशियों का इतिहास देश में हमेशा से ही प्रेरणादायी रहा है। यादव समाज ने हमेशा से ही राष्ट्रहित में स्वतंत्रता पूर्व और उसके बाद भी कई युद्धों में अपने अदम्य साहस और शौर्य का परिचय देते हुए प्राण न्यौछावर किये हैं। आतंकियों या पड़ोसी शत्रु राष्ट्रों की देश विरोधी गतिविधियों का भी समाज के वीरों और वीरांगनाओं ने आगे बढ़कर मुकाबला किया है।

‘रेजिमेंट नहीं बनने का दंश भुगत रहा समाज’
पत्र में आगे लिखा कि समाज में रण कौशल और अदम्य साहस होते हुए भी भारतीय सेना के पुनर्गठन के समय अहीर समाज (यादव) की रेजिमेंट नहीं बनी गई। इस कारण इस कौम के जांबाजों को अपने वन्शानुकुल साहस को देश हित में प्रयोग करने का मौका नहीं मिल पा रहा है। इस रेजिमेंट के नहीं बनाए जाने का दंश समाज आज तक भुगत रहा है।

‘स्वाभिमान-समर्पण भाव के लिए हो गठन’
विधायक ने लिखा, अहीर (यादव) समाज की प्रतिष्ठा, सम्मान, स्वाभिमान और योद्धाओं के त्याग, बलिदान और देशभक्ति के समर्पण भाव को ध्यान में रखते हुए इस समाज को भारतीय सेना में रेजिमेंट का गठन किये जाने की अत्यंत आवश्यकता है।

Show More
nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned