राजस्थान: विधानसभा सत्र को इस सीनीयर BJP MLA ने बता डाला खानापूर्ति, जानें क्या दी वजह?

- राजस्थान विधानसभा का ‘विशेष’ सत्र, इस बार नहीं हो रहा प्रश्नकाल-शून्यकाल, भाजपा के वरिष्ठ विधायक ने जताई चिंता, मौजूदा सदन की कार्यवाही को बताया खानापूर्ति, प्रेस विज्ञप्ति के ज़रिये जारी किया बयान

 

By: nakul

Updated: 24 Aug 2020, 10:37 AM IST

जयपुर।

भाजपा विधायक प्रताप सिंह सिंघवी ने मौजूदा विधानसभा सत्र के दौरान जनहित से जुड़े मुद्दों पर चर्चा नहीं होने पर चिंता जताई है। उन्होंने प्रश्नकाल और शून्यकाल को बेहद महत्वपूर्ण बताते हुए इन्हें पुनः शामिल करने की मांग उठाई है। साथ ही सत्र को खानापूर्ति तक करार दिया है।

बारां जिले की छबड़ा विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक प्रताप सिंह सिंघवी ने अपनी चिंता जारीर करते हुए एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की है। अपने बयान में उन्होंने कहा है कि राजस्थान विधानसभा के मानसून सत्र में प्रश्नकाल नहीं होने से जनता से जुड़े मुद्दों पर चर्चा नहीं हो रही है। मौजूदा मानसून सत्र मात्र खानापूर्ति बन गया है, जिसमें कांग्रेस अपनी आपसी लड़ाई भुना रही है।

उन्होंने पत्र में कई मौजूदा मुद्दों के नहीं उठने को लेकर भी ध्यान खींचा है। उन्होंने बयान में कहा है कि जनता से जुड़े मुद्दे जैसे स्कूल फीस, टिड्डी से किसानों की फसल में हो रहा नुकसान, बेरोजगारी, लम्बित भर्तियां, अवैध बजरी खनन, महंगा पैट्रोल व डीजल, कर्मचारियों का वेतनमान, बरसात में किसानों को हो रहे नुकसान आदि जनहित के मुद्दों पर चर्चा नहीं होकर सदन केवल चंद दिनों चलाकर खानापूर्ति की जा रही है।

दरअसल, राज्य विधानसभा का माजूदा सत्र विशेष परिस्थितियों के मद्देनज़र बुलाया गया था। सत्र के पहले दिन सरकार ने विश्वास मत हासिल किया जबकि दूसरे दिन वैश्विक महामारी कोरोना पर हंगामेदार विशेष चर्चा हुई। अब तीसरे दिन कुछ विधेयकों पर चर्चा कर उन्हें पारित करवाया जाएगा। ऐसे में पूरे सत्र के दौरान प्रश्नकाल और शून्यकाल की कार्यवाही नहीं हो पा रही है।

... नहीं तो उठते महत्वपूर्ण मुद्दे-सवाल
कोरोना के अलावा भी ऐसे कई विषय व मुद्दे थे जिन्हें लेकर सत्तापक्ष और विपक्ष के विधायकों ने ढेरों सवाल लगाए थे। विपक्ष ने भी सरकार को कई मुद्दों पर चौतरफा घेरने की पूरी तैयारी कर ली थी। ‘पत्रिका’ ने भी खबरों के माध्यम से मौजूदा सत्र के दौरान जनहित से जुड़े कई महत्वपूर्ण मुद्दे नहीं उठ पाने को प्रमुखता सा दिखाया है। लेकिन ये सत्र अब बिना प्रश्काल और शून्यकाल के ही आज अनिश्चितकाल तक के लिए स्थगित हो रहा है।

आज भी लगे हुए थे कई महत्वपूर्ण प्रश्न
विधानसभा में यदि आज प्रश्नकाल और शून्यकाल होते तो विधायक कई महत्वपूर्ण सवाल उठाने वाले थे। इनमें प्रदेश में टिड्डियों से फसलों को होने वाले नुकसान की गिरदावरी और मुआवज़े, आयुर्वेद चिकित्सालयों में रिक्त पद, चुरू में नसबंदी कैम्प के दौरान ही मौत का मामला, विश्वविद्यालयों में स्थाई कुलपति की नियुक्ति का मामला, जन-आधार कार्ड से निशुल्क इलाज और सार्वजनिक उपक्रमों सहित विभिन्न विभागों से जुड़े प्रश्न लगे हुए थे। जो अब नहीं लिए जा सकेंगे।

आज होते इनके सवाल, ‘गरमा’ जाता सदन
जिन विधायकों के आज सवाल लगे हुए थे उनमे ज़्यादातर विपक्ष के ‘आक्रामक’ और वरिष्ठ विधायक थे। इनमें राजेन्द्र राठौड़, डॉ सतीश पूनिया, मदन दिलावर, किरण माहेश्वरी, रामलाल शर्मा, कालीचरण सराफ और प्रताप सिंह सिंघवी शामिल थे।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned