विधानसभाध्यक्ष बुलाएं विशेष सत्र, पूनियां ने लिखा पत्र

प्रदेश में बढ़ते महिला अपराधों एवं बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर चर्चा के लिए भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग की है। इस संबंध में पूनियां ने विधानसभाध्यक्ष डॉ. सी.पी. जोशी को पत्र लिखा है।

By: Umesh Sharma

Updated: 03 Dec 2019, 06:37 PM IST

जयपुर।

प्रदेश में बढ़ते महिला अपराधों एवं बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर चर्चा के लिए भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग की है। इस संबंध में पूनियां ने विधानसभाध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां को पत्र लिखा है।

पूनियां ने बताया कि उन्होंने पत्र में लिखा है कि राजस्थान में विगत एक वर्ष में अपराधों में डेढ़ गुना तक वृद्धि हुई है। वहीं महिला तथा बच्चियों के साथ दुष्कर्म की घटनाओं में बेतहाशा वृद्धि होना प्रदेश के लिए चिंताजनक है। राज्य सरकार कानून व्यवस्था पर कोई नियंत्रण नहीं रख पा रही है। ऐसी स्थिति में विधानमण्डल की नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि अपराधों पर नियंत्रण एवं महिला व बच्चियों के साथ हो रही दुष्कर्म की घटनाओं पर कठोर कार्यवाही हो, इस हेतु विशेष सत्र आहुत कर चर्चा की जानी चाहिए।

तेलंगाना की घटना से आहत है देश
तेलंगाना में एक महिला चिकित्सक के साथ हुए बलात्कार और इसके बाद उसे जिंदा जला देने की घटना से पूरा देश आहत है। देशभर में प्रदर्शन किए जा रहे हैं और मांग की जा रही है ऐसे दरिंदों को तुरंत सजा दी जानी चाहिए। उधर राजस्थान के टोंक में भी छह साल की बच्ची के साथ हुए बलात्कार और इसके बाद उसकी हत्या को लेकर रोष है।

चौराहे पर फांसी की सजा देना भी कम
सतीश पूनियां ने कहा कि इस तरह के मामलों में दोषी को चौराहे पर फांसी की सजा देना भी बहुत कम दंड है। प्रधानमंत्री नरेंद मोदी ने इस तरह के अपराधों में फांसी की सजा क प्रावधान किया है। राज्य सरकारें भी इसे सख्ती से लागू करें।

बच नहीं सकती सरकार
दुष्कर्म मामले में मंत्री बी.डी. कल्ला के इंटरनेट से जुड़े बयान पर भी पूनियां ने पलटवार किया। उन्होंने कहा कि मंत्री इस तरह के बयान देकर बचाव कर रहे हैं, लेकिन सरकार अपनी जिम्मेदारी से नहीं बच सकती।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned