Swami Chinmayanand गिरफ्तार, जाने 'हाई प्रोफ़ाइल' रेप मामले का राजस्थान कनेक्शन

Swami Chinmayanand गिरफ्तार, जाने 'हाई प्रोफ़ाइल' रेप मामले का राजस्थान कनेक्शन

Nakul Devarshi | Updated: 20 Sep 2019, 02:45:09 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

BJP Leader Swami Chinmayanand arrested: उत्तर प्रदेश में शाहजहांपुर की छात्रा से रेप मामले ( Law Student Rape Case ) में विशेष जांच दल (SIT) ने पूर्व गृह राज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद ( Swami Chnmayanand ) को गिरफ्तार कर लिया है। एसआइटी ने शुक्रवार को चिन्मयानंद को बड़ी संख्या में पुलिस बल के साथ उनके आश्रम में घेर लिया। एसआइटी की टीम स्वामी चिन्मयानंद को मुमुक्ष आश्रम उनके निवास से कड़ी सुरक्षा के बीच कोतवाली लेकर गई ।

जयपुर/ शाहजहांपुर/ लखनऊ।

उत्तर प्रदेश में शाहजहांपुर की छात्रा से रेप मामले ( Law Student Rape Case ) में विशेष जांच दल (SIT) ने पूर्व गृह राज्य मंत्री स्वामी चिन्मयानंद ( Swami Chnmayanand ) को गिरफ्तार कर लिया है। एसआइटी ने शुक्रवार को चिन्मयानंद को बड़ी संख्या में पुलिस बल के साथ उनके आश्रम में घेर लिया। एसआइटी की टीम स्वामी चिन्मयानंद को मुमुक्ष आश्रम उनके निवास से कड़ी सुरक्षा के बीच कोतवाली लेकर गई ।


राज्य के पुलिस महानिरीक्षक (कानून व्यवस्था) प्रवीन कुमार ने बताया कि एसआइटी ने पुलिस की टीम के साथ पहुंचकर स्वामी चिन्मयानंद को आश्रम से उठाया और बाद में कोतवाली ले गई। उसके बाद चिकित्सीय परीक्षण के लिए मेडिकल कॉलेज लेकर ले जाया गया।


स्वामी चिन्यमानंद का ट्रामा सेंटर में चेकअप कराया गया। इस दौरान एसआइटी प्रभारी नवीन अरोड़ा के साथ ही अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद रहे। गौरतलब है कि विधि की एक छात्रा ने स्वामी चिन्मयानंद पर शोन शोषण के गंभीर अरोप लगाये थे। इस मामले में छात्रा ने धमकी थी कि अगर स्वामी को गिरफ्तार नहीं किया जायेगा तो वह आत्महत्या कर लेगी।


ये रहा केस का राजस्थान कनेक्शन
दरअसल, पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानन्द पर शोषण का आरोप लगाने वाली लॉ कॉलेज की छात्रा को यूपी पुलिस ने दौसा जिले के मेहंदीपुर बालाजी से दस्तयाब किया था। इसके बाद दौसा जिला पुलिस भी हरकत में आ गई थी।


उच्चाधिकारियों के निर्देश पर मेहन्दीपुर बालाजी थाना पुलिस ने छात्रा के रुकने वाली धर्मशाला के बारे में जानकारी ली थी। पूछताछ में सामने आया था कि छात्रा ने उसके साथी संजय के साथ धर्मशाला में कमरा बुक करवाई थी। वे 29 अगस्त को ही मेहंदीपुरबालाजी धर्मशाला पहुंच गए थे। ठहरने के लिए छात्रा के साथी ने ही अपनी आईडी धर्मशाला में जमा कराई थी।

थाने के एएसआई रामचरण के अनुसार छात्रा व उसका साथी मेहंदीपुर बालाजी की एक यात्री निवास धर्मशाला में 29 अगस्त को दोपहर 12 बजे पहुंच गए थे। छात्रा ने उसके साथी युवक की आईडी बताकर धर्मशाला में कमरा बुक करवाई थी। आईडी भी छात्रा की नहीं दी गई थी।

हालांकि यूपी पुलिस ने छात्रा की बरामदगी की कार्रवाई को गोपनीय रखा था। इसकी जानकारी स्थानीय जिला पुलिस को नहीं दी गई थी। मामला सामने आने के बाद स्थानीय पुलिस धर्मशाला पहुंची और जानकारी जुटाई। दस्तयाब करने के बाद पीड़िता छात्रा को पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट में पेश किया था। इस पर कोर्ट ने अपने रजिस्ट्री को निर्देश दिए थे कि वह छात्रा के चार दिन दिल्ली में रुकने का इंतजाम करे।

रजिस्टर का पेज भी फाड़ कर ले गई थी पुलिस

छात्रा की बरामदगी की कार्रवाई इतनी गोपनीय रखी गई थी कि यूपी पुलिस ने कोई सबूत छोडऩा तक मुनासिब नहीं समझा। मेहंदीपुर थाना पुलिस ने बताया कि जिस रजिस्टर में एंट्री होती है, उसका वह पेज भी यूपी पुलिस फाड़ कर ले गई, जिसमें दोनों के नाम पते मौजूद थे। हालांकि धर्मशाला में रजिस्टर के पन्ने की फोटो कॉपी से उनके ठहरने की अधिकृत पुष्टि हो गई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned