‘लव जिहाद’ पर सीएम गहलोत से सवाल पूछकर बुरे फंसे BJP प्रदेश अध्यक्ष पूनिया, जानें पूरा माजरा

‘लव जिहाद’ पर कांग्रेस V/S भाजपा, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया का ट्वीट चर्चा में, पुरानी खबर के आधार पर आरोप लगाना पड़ गया भारी, वर्ष 2017 की खबर के आधार पर लगाए सीएम गहलोत पर आरोप, भाजपा की पूर्ववर्ती सरकार के दौरान की निकली घटना, मुख्यमंत्री के ओएसडी ने कुछ मिनटों में ही किया खुलासा, पुरानी खबर का लिंक देकर पूनिया पर किया पलटवार

 

By: nakul

Published: 26 Nov 2020, 02:14 PM IST

जयपुर।

‘लव जेहाद’ के मुद्दे पर प्रदेश की सियासत गरमाई हुई है। कांग्रेस-भाजपा के नेता एक-दूसरे पर बयानबाजी कर आरोप-प्रत्यारोपों में व्यस्त हैं। लेकिन इस बीच आज एक रोचक और चौंकाने वाला मामला सामने आया है, जिसमें ‘लव जेहाद’ मुद्दे पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और राज्य की कांग्रेस सरकार पर निशाना साधना भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनिया को भारी पड़ गया।

दरअसल, डॉ पूनिया ने सरकार को ‘लव जेहाद’ मुद्दे पर घेरने की मंशा से आज एक ट्वीट पोस्ट की। एक अखबार में प्रकाशित खबर की कटिंग का हवाला देते हुए पूनिया ने गहलोत और राज्य सरकार पर आरोप लगा डाले।

पूनिया ने खबर को आधार बनाते हुए कहा कि ‘लव जेहाद’ की ऐसी एक नहीं बल्कि कई घटनाएं प्रदेश में रोज़ घटित हो रही हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री को संबोधित करते हुए पूछा- आखिर प्रताड़ित बच्चियों के मुखिया कब बोलेंगे?’ यही नहीं, पूनिया ने कटाक्ष करते हुए कहा, ‘भारत के धर्म्निर्पेश नेता मुख्यमंत्री अशोक गहलोत प्रकाश डालने का कष्ट करें।'

सीएम ओएसडी ने खोली पोल
डॉ पूनिया के ट्वीट पोस्ट के कुछ मिनटों बाद ही मुख्यमंत्री के ओएसडी लोकेश शर्मा ने पलटवार करते हुए ऐसा खुलासा कर डाला जो हर किसी को चौंका गया। दरअसल, जिस अखबार की प्रकाशित खबर को आधार बनाकर पूनिया ने सरकार पर आरोप लगाए वो वर्ष 2017 की निकली। घटना के वक्त प्रदेश में पूर्ववर्ती वसुंधरा राजे नीत भाजपा सरकार थी।

ऐसे किया पलटवार
मुख्यमंत्री ओएसडी लोकेश शर्मा ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पर पलटवार करते हुए लिखा, ‘माननीय भाजपा प्रदेशाध्यक्ष जी यह 'अखबारी ख़बर' वर्ष 2017 की है, इसकी 'पुष्टि' कर ली गई है। आपकी जानकारी के लिए खबर का लिंक भी साझा किया जा रहा है।

ये थी खबर, जिसपर मचा ‘बवाल’
खबर वर्ष 2017 के मई माह की बताई गई है जब राजस्थान पुलिस ने सीकर में एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया था जो नाबालिग लड़कियों को प्रेम जाल में फंसाकर दुष्कर्म करता था और फिर उनका वीडियो बनाकर वायरल कर देता था। लड़कियों से धर्म परिवर्तन कराकर गिरोह के किसी एक सदस्य से निकाह करने का भी दबाव डाला जाता था। यदि लड़की इसके लिए राजी हो जाती थी तो उसे ये गिरोह कुछ दिन बाद देह व्यापार के काम में लगा देते थे।

nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned