बुजुर्ग महिला को नहीं मिली पेंशन, अटका ब्रेस्ट कैंसर का ईलाज

पेंशनर ( Pensioner ) पति के निधन अक्टूबर 2018 के बाद से विधवा गुलाब देवी पेंशन के लिए दर-दर भटक रही है। बावजूद आठ माह से पेंशन नहीं मिली। आखिरकार जिला कलेक्टर ( District Collector ) के पास गुहार लेकर पहुंची तो कुछ राहत के छींटे मिले। कलेक्टर ने कोषाधिकारी को बोलकर संबंतिध बैंक को जल्द पेंशन देने के लिए कहा।

सरकारी नौकरी ( government job ) से सेवानिवृत्त होने के बाद हर कोई पेंशन ( pension ) से आराम की जिदंगी जीना चाहता है, लेकिन क्या आपने सोचा है कि पेंशन नहीं मिलने से किसी की जिदंगी कितनी भयावह हो सकती है। ऐसा ही एक दृश्य मंगलवार दोपहर जिला कलेक्ट्रेट कार्यालय ( District Collectorate Jaipur ) में देखने को मिला। दोपहर करीब 2 बजे जिला कलेक्टर के वाहन के ठीक पीछे पहियों के पास एक बुजुर्ग महिला दर्द से कहराती नजर दिखी। उनके साथ उनका पुत्र अर्जुन भी था, लेकिन दोनों सहायता के लिए इधर-उधर देखते रहे। उनसे बात की, तो महिला ने बताया कि ब्रेस्ट कैंसर ( breast cancer ) से पीडि़त हूं। आठ माह पहले पति के निधन के बाद पेंशन की लिए दर-दर भटक रही हूं। बावजूद अभी तक कोई राह नहीं दिख रही। ऐसे में अब पहली बार जिला कलेक्टर के पास आई हूं।

महिला से मिलने नीचे आए कलेक्टर
रिपोर्टर ने जिला कलेक्टर जगरूप सिंह यादव ( Jagroop Singh Yadav ) को जानकारी दी तो वे नीचे आए। उन्होंने महिला से बात की। उनके पुत्र से समस्या संबंधित पत्र प्राप्त किया। इसके बाद उन्होंने तुरंत कोषाधिकारी जयपुर ग्रामीण को फोन कर पेंशन संबंधित सहायता कराने के निर्देश दिए। साथ ही कलेक्टर ने संबंधित बैंक पेंशन देने में क्यों देरी कर रहा है इसकी भी रिपोर्ट मांगी। कलेक्टर के निर्देश पर कोषाधिकारी ने संबंधित बैंक से बात कर पीडि़ता को कहा कि जल्द ही पेंशन मिलनी शुरु हो जाएगी।

गुलाब देवी ने कुछ ऐसा कहा

पीडि़त गुलाब देवी ने बताया कि आठ माह से पेंशन के लिए भटक रही हूं। तहसील शाहपुरा ( shahpura ) के मनोहरपुर में रहती हूं। पेंशन नहीं मिल रही तो कैंसर का ईलाज तक नहीं करा पा रही। बीमारी बढ़ती जा रही है। पेंशन के लिए जहां भी जाती है तो वे लोग 'शुरू कर देंगे बोल भेज देते है। बैंक के भी कई चक्कर लगा लिए। मेरे पति महावीर प्रसाद कारागार विभाग ( jail department ) में नौकरी करते थे। गुलाब देवी के बेटे अर्जुन ने बताया कि अक्टूबर 2018 में पिता का निधन हो गया था। इसके बाद मां को पेंशन नहीं मिल रही। अब जिला कलेक्टर ने राहत दी है।

Show More
surendra kumar samariya Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned