डीलर बनाने के लिए मांगी थी घूस, 14 साल बाद २ साल की जेल

एसीबी मामलों की विशेष अदालत का फैसला, आरोपी है तत्कालीन सहायक विक्रय प्रतिनिधि 72 वर्षीय भगवती नारायण माथुर

जयपुर. 14 साल पहले सरस दूध बेचने के लिए डीलर लाइसेंस (डेयरी बूथ) के लिए मौका रिपोर्ट देने की एवज में 1000 रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किए गए तत्कालीन सहायक विक्रय प्रतिनिधि दुर्गापुरा निवासी भगवती नारायण माथुर (72) को न्यायालय ने दो वर्ष के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। एसीबी मामलों की विशेष अदालत एक में जज उपेन्द्र शर्मा ने 20 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है।
सुन्दर नगर सांगानेर निवासी जौहरी लाल ने शिकायत दर्ज करवाई थी कि उसने जयपुर डेयरी में बूथ के लाइसेंस के लिए आवेदन किया था। जिसका निरीक्षण कर मौका रिपोर्ट बनाने के लिए भगवती नारायण ने 5 हजार रुपए मांगे। उसमें 2 हजार रुपए सिक्योरिटी राशि जमा होगी। 18 अप्रेल 2006 को किए सत्यापन में 1000 रुपए ले लिए। 1500 रुपए लेकर 19 अप्रेल को घर बुलाया। घर पर नहीं मिलने पर उस दिन ट्रेप कार्यवाही नहीं हो सकी। बाद में एसीबी ने 25 अप्रेल को घर पर ट्रेप कर लिया। 31 मई, 2008 को वह रिटायर हो गया।

इधर, सीबीआइ के नाम पर ली रिश्वत, दो साल की जेल

जयपुर. रिश्वत प्रकरण में बीएसएनएल के अफसर को क्लीन चिट दिलाने के लिए सीबीआइ अफसरों के लिए 7 लाख रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किए दलाल शाहपुरा हाल ब्रह्मपुरी निवासी नरोत्तम लाल स्वर्णकार को सीबीआइ मामलों की विशेष अदालत में जज मुकेश ने दो साल के कठोर कारावास एवं 7 लाख रुपए के जुर्माने की सजा से दण्डित किया है। रिश्वत के गंभीर प्रकरण में गलत अनुसंधान करने तथा दोषी अफसरों को बचाने पर अदालत ने आदेश की प्रति सीबीआई निदेशक, दिल्ली और एस.पी. सीबीआइ, एसीबी जयपुर को भेजते हुए आरोपी अफसर राम अवतार सोनी, जितेन्द्र कुमार, हुकुम सिंह सहित अन्य के खिलाफ डीआईजी स्तर के उच्चाधिकारी से 6 माह में जांच करवा कर नतीजा अदालत में पेश करने के आदेश दिए हैं।

Abrar Ahmad
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned