कम उम्र में ही बनीं ‘प्रिसेंज ऑफ पॉप’

जब ये आठ साल की हुई तो अपनी मां के साथ एटलांटा गई, उस समय वहां मिकी माउस क्लब के ऑडिशन्स चल रहे थे। मां को भरोसा था कि बेटी को यहां अवश्य मौका मिलेगा लेकिन क्लब के डायरेक्टर ने यह कहकर रिजेक्ट कर दिया कि ये अभी बहुत छोटी है।

By: Archana Kumawat

Published: 17 Jun 2020, 05:02 PM IST

इनका जन्म 1981 में मिसिसिपी के मैक्कॉम्ब में हुआ था। जहां इनका जन्म हुआ, वहां धार्मिक माहौल बहुत अधिक था। इसलिए बचपन में ही इन्होंने चर्च की प्रार्थनाएं गाना शुरू कर दिया था। तीन साल की उम्र में डांस सीखना शुरू कर दिया था। पांच साल की उम्र में पहली बार स्टेज परफॉर्मेंस दिया। सोलो आर्टिस्ट के रूप में यह इनकी पहली प्रस्तुति थी। इनका दाखिला केंटवुड के स्कूल में करवाया गया। स्कूल में भी ये बहुत एक्टिव रहती थी। पढ़ाई के साथ ये सभी तरह की गतिविधियों में भाग लिया करती थी। इस तरह जल्द ही स्कूल में सभी की चहेती बन गई थी। अब जिम्नास्टिक्स और गायन सीखना भी शुरू कर दिया था। गायन में इन्हें बड़ा मजा आने लगा। अब ये बच्चों के शोज में हिस्सा लेती और प्रतियोगिता जीत लेती। कुछ ही समय में राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं में भी भाग लेना शुरू किया।
ऑडिशन में किया गया रिजेक्ट
जब ये आठ साल की हुई तो अपनी मां के साथ एटलांटा गई, उस समय वहां मिकी माउस क्लब के ऑडिशन्स चल रहे थे। मां को भरोसा था कि बेटी को यहां अवश्य मौका मिलेगा लेकिन क्लब के डायरेक्टर ने यह कहकर रिजेक्ट कर दिया कि ये अभी बहुत छोटी है। रिजेक्ट करने के बाद जब डायरेक्टर ने इन्हें उदास देखा तो उन्होंने इनकी मुलाकात न्यूयॉर्क सिटी टैलेंट एजेंट नैन्सी कार्सन से करवाई। नैन्सी ने जब इनका गाना सुना तो उन्हें बहुत पसंद आया। नैन्सी ने मां को सलाह देते हुए कहा कि वे इनका एडमिशन न्यूयॉर्क के प्रोफेशनल परफॉर्मिंग आर्ट स्कूल में करवा दें। इसके बाद एटलांटा से लौटते ही इनका एडमिशन मां ने उसी स्कूल में करवा दिया।
मिकी माउस क्लब की तरफ से आया ऑफर
समय के साथ गायन और अभिनय इनका पैशन बन गया था। अपनी स्किल्स का विकास करते हुए ये दोनों ही क्षेत्रों में बेहतर हो रही थी। न्यूयॉर्क में ही इन्हें ‘रूथलेस’ नाम के म्यूजिकल शो में हिस्सा लेने का मौका मिला। इसके बाद ये कई विज्ञापनों में भी नजर आने लगी। टीवी शो ‘स्टार सीक्रेट’ में भाग लिया लेकिन वे शो में हार गई। 1992 में मिकी माउस क्लब के निर्देशक ने इनसे संपर्क कर एक रोल का प्रस्ताव रखा। इन्होंने रोल को स्वीकार कर लिया, क्योंकि शो की कास्ट में कई सेलेब्रिटीज शामिल थे। 1996 में शो बंद होने के बाद ये वापस अपनी मां के साथ अपने होम टाउन में आ गई। शो के बंद हो जाने पर इन्हें बहुत निराशा हुई। तब मां ने समझाया और इन्होंने अपना फोकस आगे की स्टडी पर करते हुए पार्कलेन एकेडमी में एडमिशन लिया।
म्यूजिक में ही आगे बढऩे की ठानी
पढ़ाई के साथ भी ये अपने रियाज के लिए समय निकालना नहीं भूलती थी। जब तक रियाज नहीं कर लेती, पूरा दिन खाली-खाली सा लगता है। ये समझ गई थी कि म्यूजिक से खुद को दूर नहीं रखा जा सकता है। अब म्यूजिक में ही आगे बढऩी की सोची। आखिरकार 1999 में इन्होंने अपने सोलो कॅरियर की शुरुआत करते हुए पहला डेब्यू एल्बम ‘बेबी वन मोर टाइम’ रिलीज किया। यह एल्बम बहुत हिट हुआ और इसके लिए इन्हें कई अवॉड्र्स मिले। इस समय इनकी उम्र सिर्फ 17 वर्ष थी। इसके बाद ये तेजी से अपने मुकाम पर पहुंचने लगी। वर्ष 2000 में इनका दूसरा एल्बम आया जो पहले सप्ताह में ही गोल्ड कैटेगरी में आ गया। ये कोई और नहीं, बल्कि अमरीकी गायक, रिकॉर्ड कलाकार, गीतकार, नर्तकी और अभिनेत्री ब्रिटनी स्पीयर्स है। ब्रिटनी ने कई हिट एल्बम दिए। 2013 में ‘ब्रिटनी जीन’ और 2016 में ‘ग्लोरी’ एल्बम रिलीज हुआ। ब्रिटनी ने ग्रैमी अवॉड्र्स, एमटीवी वीडियो म्यूजिक अवॉड्र्स और बिलबोर्ड अवॉर्ड जीत चुकी है।

Archana Kumawat
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned