scriptBye Election Rajasthan Congress Win Bjp Defeat Satish Poonia Cm Gehlot | Bye Election Rajasthan : जब हम सत्ता में थे, तब भी हम लोकसभा-विधानसभा में सीटें हारे थे...पूनियां का इशारा किस तरफ था | Patrika News

Bye Election Rajasthan : जब हम सत्ता में थे, तब भी हम लोकसभा-विधानसभा में सीटें हारे थे...पूनियां का इशारा किस तरफ था

धरियावद और वल्लभनगर विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस ने जीत हासिल की है। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ सरीखे नेताओं के मैदान में उतरने के बाद भी पार्टी की हार होना सबके लिए चौंकाने वाला है।

जयपुर

Published: November 02, 2021 04:29:12 pm

जयपुर।

धरियावद और वल्लभनगर विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस ने जीत हासिल की है। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ सरीखे नेताओं के मैदान में उतरने के बाद भी पार्टी की हार होना सबके लिए चौंकाने वाला है। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने कहा है कि यह कांग्रेस की जीत नहीं है, बल्कि भाजपा के परम्परागत वोटबैंक के विभाजन की वजह से भाजपा की हार हुई है। लेकिन पूनियां का यह बयान कि 'जब हम सत्ता में थे तब भी हमने लोकसभा और विधानसभा की सीटें हारी थी', आखिर किसकी ओर इशारा था।
Bye Election Rajasthan : जब हम सत्ता में थे, तब भी हम लोकसभा-विधानसभा में सीटें हारे थे...पूनियां का इशारा किस तरफ था
Bye Election Rajasthan : जब हम सत्ता में थे, तब भी हम लोकसभा-विधानसभा में सीटें हारे थे...पूनियां का इशारा किस तरफ था
पूनियां ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि चुनाव में स्थानीय समीकरण भाजपा के हक में नहीं थे। स्थानीय मुद्दों का चुनाव में ज़्यादा असर होता है। हम हार का विश्लेषण करेंगे, मगर वोटो का विभाजन और स्थानीय मुद्दे चुनाव में हावी रहे। पूनियां ने कहा कि उप चुनाव में हार का मतलब यह नहीं कि 2023 में कांग्रेस विधानसभा चुनाव जीत जाएगी। पूनियां ने महंगाई को मुद्दा मानने से किया इनकार और कहा कि हम जीत के उद्देश्य से उतरे थे। यह सही है कि कांग्रेस ने सत्ता का दुरुपयोग किया, लेकिन मैं कहूंगा तो कांग्रेस वाले कहेंगे कि हारने के बाद बहाने बना रहे हैं।
कन्हैया लाल नैसर्गिक उम्मीदवार

कन्हैया की जगह खेतसिंह मीणा को उम्मीदवार बनाने से हार के प्रश्न पर पूनियां ने कहा कि कन्हैया लाल नैसर्गिक उम्मीदवार थे, लेकिन यह केंद्रीय नेतृत्व का नीतिगत केंद्र का फेसला था। प्रदेश इकाई कुछ नहीं कहेंगा। ये कह सकते हैं कि परिणाम आशा के विपरीत है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.