कैप्चा-ओटीपी बाइपास कर तत्काल टिकट में हेरा-फेरी

रेलवे की तत्काल टिकट ( Railway Tatkal Ticket ) बुकिंग में गड़बड़ी ( Fraud in Booking ) करने वाले गिरोह का पर्दाफाश ( Gang Busted ) करने के बाद अब रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने अब देशभर के अलग-अलग हिस्सों में छापे मारकर करीब 300 एजेंट्स को गिरफ्तार ( 300 Agents Arrested ) किया है। ( Jaipur News )

- रेलवे सुरक्षा बल का अभियान तेज

-300 एेजेंट गिरफ्तार, 21 लाख के टिकट सीज

-गलत तरीके से पहले टिकट बुक कर महंगे दामों में थे बेचते

मुंबई। रेलवे की तत्काल टिकट ( Railway Tatkal Ticket ) बुकिंग में गड़बड़ी ( Fraud in Booking ) करने वाले गिरोह का पर्दाफाश ( Gang Busted ) करने के बाद अब रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने अब देशभर के अलग-अलग हिस्सों में छापे मारकर करीब 300 एजेंट्स को गिरफ्तार ( 300 Agents Arrested ) किया है। ( Jaipur News ) इसमें से 48 सिर्फ मुंबई से हैं। इन लोगों के पास से लगभग 21 लाख रुपए के टिकट भी बरामद किए गए। ये लोग ऑनलाइन सिस्टम के बावजूद गलत तरीके से टिकट बुक कर लेते थे और उसे महंगे दामों में बेच देते थे।

-आधे से ज्यादा टिकट 50 सेकेंड में बुक

जानकारी के मुताबिक, यह गिरोह हर दिन बड़े और महत्वपूर्ण मार्गों के हजारों तत्काल टिकट बुक कर रहा था। जिन 300 एजेंट्स को गिरफ्तार किया गया है, वे सभी आईआरसीटीसी से मान्यता प्राप्त हैं। गड़बड़ी करने के लिए ये लोग आईआरसीटीसी के यूजर आईडी और पासवर्ड के साथ-साथ फ र्जी आईडी का इस्तेमाल करते थे। अनऑथराइज्ड सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके ये लोग कुल उपलब्ध टिकटों के आधे से ज्यादा टिकट सिर्फ 50 सेकंड में ही बुक कर लेते थे।

-गिरोह के लोग दुबई तक

आरपीएफ के महानिदेशक अरुण कुमार ने बताया कि सिस्टम में गड़बड़ी करके टिकट बुक करने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई जारी कर रहेगा। सिर्फ दो दिनों में ही 300 एजेंट्स गिरफ्तार किए गए हैं।' सेंट्रल रेलवे ने अभी तक लगभग 11 लाख रुपए के टिकट भी बरामद कर लिए हैं। वहीं, वेस्टर्न रेलवे ने लगभग 10 लाख रुपए कीमत के टिकट बरामद किए हैं। जनवरी के आखिरी हफ्ते में आरपीएफ ने 26 लोगों को गिरफ्तार किया था। इस गिरोह के मुखिया की पहचान गुलाम मुस्तफ ा के रूप में हुई है. वहीं, वेस्टर्न रीजन में गिरोह का काम दीपल साहा उर्फ डैनी साहा संभालता था। इसके अलावा दुबई से गिरोह का काम देखने वाले हामिद अशरफ की भी पहचान की है।

-आप आदमी चुका रहा एक्स्ट्रा चार्ज

भारत में तत्काल टिकट बुक करवा पाना काफ ी मुश्किल काम है। ऐसे में आम नागरिक को तत्काल टिकट के लिए एजेंट्स को हर टिकट के लिए 200 से 500 रुपए अतिरिक्त देने पड़ते थे। त्योहारों से समय में यही एक्स्ट्रा चार्ज 1000 रुपए तक भी पहुंच जाता है।

-सॉफ्टवेयर का खेल...

-ये एजेंट्स जिस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करते थे, वह कैप्चा और ओटीपी को स्किप कर देता था।
-इसी के चलते एजेंट्स हर टिकट की बुकिंग में लगभग 30 सेकंड का समय बचा लेते थे।
-इतने समय में आम लोग लॉगिन भी नहीं कर पाते हैं।
-इसका फ ायदा इस गिरोह को टिकट लेने में भी मिलता था और आधे से ज्यादा टिकट गिरोह ले उड़ता था।
-इस सॉफ्टवेयर की मदद से एक ही कंप्यूटर पर 500 अलग-अलग आईपी अड्रेस जेनरेट होते थे, जिससे एक ही कंप्यूटर से कई सारे टिकट बुक हो जाते थे।

sanjay kaushik Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned