जयपुर में फंसे मजदूरों के लिए सोशल मीडिया के माध्यम से गुहार, बिहार से लेकर उत्तरप्रदेश के सीएम तक से मांगी मदद

देशभर में लॉकडाउन के चलते मजदूरों पर संकट की घड़ी आ खड़ी हुई है। ट्रांसपोर्ट व्यवस्था नहीं मिलने से अधिकत्तर दिहाड़ी मजदूर जयपुर से अपने अपने राज्यों की ओर रवाना हो गए हैं। लेकिन इसके बावजूद भी जयपुर शहर मे बिहार,उत्तरप्रदेश,मध्यप्रदेश सहित कई राज्यों के मजदूर लॉक डाउन की वजह से जयपुर में फंस गए हैं...

By: dinesh

Published: 28 Mar 2020, 09:40 AM IST

जयपुर। देशभर में लॉकडाउन के चलते मजदूरों पर संकट की घड़ी आ खड़ी हुई है। ट्रांसपोर्ट व्यवस्था नहीं मिलने से अधिकत्तर दिहाड़ी मजदूर जयपुर से अपने अपने राज्यों की ओर रवाना हो गए हैं। लेकिन इसके बावजूद भी जयपुर शहर मे बिहार,उत्तरप्रदेश,मध्यप्रदेश सहित कई राज्यों के मजदूर लॉक डाउन की वजह से जयपुर में फंस गए हैं। जिन मजदूरों के लिए अब सोशल मीडिया के माध्यम से मदद मांग प्रशासन से अपील की जा रही है। जिसमें मजदूरों के लिए बिहार से लेकर उत्तरप्रदेश के सीएम तक से मदद मांगी गई। बिहार से जयपुर में आकर मजदूरी कर रहे मजदूरों के लेकर बिहार के सियासत से जुड़़ लोगों ने भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को ट्वीट कर उनसे मदद मांगी है। मुख्यमंत्री गहलोत को ट्वीट करने वालों में बिहार के एक्स डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव से लेकर पूर्व मंत्री तेज यादव तक ने सीएम को ट्वीट कर इनके लिए मदद मांगी है। इसके अलावा मजदूर खुद भी ट्वीट कर मदद मांग रहे हैं।

ऐसे लगा रहे गुहार
लालू यादव के बेटे और बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री के ट्वीटर अकाउंट पर लिखा है कि आदरणीय बिहार के तक़रीबन 150 ग़रीब मज़दूर गीतांजली हॉस्टल, इंडिया गेट, सीतापुरा और टोंक रोड, सदर थाना, इलाके जयपुर में फँसे है। कृपया लॉकडाउन रहने तक इनके खाने की व्यवस्था का प्रबंध करने का कष्ट देना चाहेंगे। इसके साथ ही एक पेज का फोटो भी ट्वीट किया है जिसमें सभी मजदूरों के नाम,फोन नंबर,उनके गृहजिला का पता और जयपुर में रह रहे स्थान का पता हैं।

मदद करो नहीं तो रास्ते में ही मरेंगे
वहीं बिहार के पूर्व मंत्री तेज यादव ने इसी तरह ट्वीट कर मदद मांगी है। प्रदेश के मुख्यमंत्री को ट्वीट करते हुए लिखा है कि आदरणीय मुख्यमंत्री जी जिला मधुबनी, बिहार के 4 मजदूर जयपुर में फंसे हुए हैं जिन्हें राशन की किल्लत है। विनती है कि इन चारों के राशन-पानी की समस्या दूर की जाए। यादव ने ट्वीटर पर मजदूरों के लिखे एक लैटर का फोटो भी पोस्ट किया है। जिसमें मजूदरों ने लिखा है कि हम लोग दिहाड़ी मजदूरी करते हैं। जवाहर नगर सेक्टर चार में रहकर दौ सौ रुपए रोजाना कमा रहे थे। अभी तीन चार रोज से भूखे मर रहे है। जेब में पैसे नहीं है। अब पैदल ही बिहार के लिए चलेंगे तो मरेंगे रास्ते में। सरकार से निवेदन है कि मदद करें। जिसके बाद पूर्व मंत्री ने ट्वीट किया हैं।

पैदल जा रहे लोगों की करे मदद
यासिर नामक वयक्ति ने मजदूरों की अपील कर सरकार को ट्वीट कर लिखा है कि जयपुर में बहुत सारे मज़दूर जो फै क्ट्यिों में काम करते थे जो दिहाड़ी पर थे वो पैदल ही छोटे बच्चो सहित दूसरे राज्यों में जहां से आए है वहां जा रहा है जिसमे ज़्यादातर अलवर और मध्य प्रदेश के है। मेहरबानी कर राजस्थान रोडवेज का इस्तेमाल कर इनकी मदद करें। वहीं एक लेखक इकबाल ने भी ट्वीट किया है कि राष्ट्रीय राजमार्ग-52 पर जयपुर से हज़ारों मज़दूर पैदल ही मध्यप्रदेश का सफ़र कर रहे हैं। छोटे-छोटे बच्चे हैं। महिलाएँ हैं।भूखें हैं प्यासे हैं। गहलोत साब बस उन्हें घर पहुंचा दीजिए।


उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री से भी मांगी मदद,सीएम ने दिया जवाब
युनुस खान ने उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री से यूपी के रहने वालों मजदूरों के लिए मदद मांगी। जिसमें ट्वीट कर लिखा कि मुख्यमंत्री जी कुछ मजदूर जयपुर मे बहुत परेशान है खाने पीने कि कोई व्यवस्था नहीं है। इस पर योगी आदित्यनाथ ने जवाब देते हुए कहा कि आपदा के इस काल में हमारे जो भी नागरिक दूसरे राज्य में मौजूद हैं, उनके परिजन परेशान न हों। हमने 12 राज्यों के लिए नोडल अफसर तैनात किए गए हैं, वे संबंधित राज्य के अधिकारियों से समन्वय बनाकर वहां रह रहे उत्तर प्रदेश के नागरिकों को हर संभव सुविधाएं उपलब्ध कराएंगे।


बिहार के मुख्यमंत्री से भी मांगी मदद
बिहार से जयपुर आए मजदूर दीपेश झा ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को ट्वीट किया है कि आपसे हाथ जोड़कर विनती करता हूं कि हम लोग जयपुर राजस्थान में फंसे हुए हैं ना तो और हमारे पास कुछ खाना खाने को है और ना ही हम घर जा सकते हैं क्योंकि अब तो बस ट्रेन भी बंद हो चुका है आप बताइए हम क्या करें।

dinesh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned