सीबीआई : बच्चों का ऑनलाइन यौन उत्पीडऩ रोकने के लिए स्पेशल यूनिट

अब भारत में बच्चों का ऑनलाइन यौन उत्पीडऩ रोकने के लिए सीबीआई की स्पेशल टीम काम करेगी। इस टीम का क्षेत्राधिकार समूचे देश में होगा। 

जयपुर. सीबीआई ने ऑनलाइन चाइल्ड यौन उत्पीडऩ रोकने और कार्रवाई करने के लिए स्पेशल क्राइम जोन के तहत स्पेशल यूनिट गठित की है। सीबीआई के अनुसार इंटरनेट के जरिए बच्चों के यौन उत्पीडऩ की घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है।
बाल यौन उत्पीडऩ पर नजर रखने वाली एक अमेरिकन संस्था की पिछले महीनों में जारी रिपोर्ट के अनुसार भारत बाल यौन उत्पीडऩ की तस्वीरों या वीडियो के मामले में दुनियाभर की लिस्ट में टॉप में शामिल है। अमरीकी संस्था नेशनल सेंटर फॉर मिसिंग एंड एक्सपालाइटेड चिल्ड्रन की रिपोर्ट के अनुसार 1998-2017 तक दुनियाभर से जनरेट हुई बाल यौन उत्पीडऩ की तस्वीरों में से 38.8 लाख भारत से हुई हैं। इसे रोकने के लिए अब सीबीआई की स्पेशल यूनिट ऑनलाइन बाल यौन उत्पीडऩ के मामलों के प्रकाशन, ट्रांसमिशन, क्रिएशन, कलेक्शन ब्राउजिंग, डाउनलोडिंग, विज्ञापन, प्रमोशन, एक्सचेंजिंग और डिस्ट्रीब्यूशन की जानकारियों को एकत्र कर अन्य एजेंसियों के साथ साझा करेगी।
साथ ही सीबीआई ऑनलाइन बाल यौन उत्पीडऩ के मामलों में आईपीसी, पोक्सो और इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट के तहत कानूनी कार्रवाई भी करेगी।
सीबीआई से जुड़े सूत्रों के अनुसार दुनियाभर में हर दिन बच्चे हर दिन ऑनलाइन यौन उत्पीडऩ का शिकार हो रहे हैं। आए दिन इंटरपोल और दूसरी नेशनल व इंटरनेशनल एजेंसियों से इस संबंध में शिकायतें प्राप्त हो रही हैं। ऑन लाइन बाल यौन उत्पीडऩ के खिलाफ कार्रवाई के लिए सीबीआई की नई स्पेशल यूनिट का क्षेत्राधिकार देशभर में होगा।

Rajkumar Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned