मोटर व्हीकल एक्ट लागू करने के लिए केन्द्र ने मजबूर किया : परिवहन मंत्री

मुख्यमंत्री से बात कर एक्ट पर फिर पुर्नविचार किया जाएगा

जयपुर सहित प्रदेश के कई जिलों में ट्रांसपोटर्स की हड़ताल, राजधानी में 30 हजार ट्रकों के पहिए थमे रहे

By: Vijay Sharma

Published: 20 Jul 2020, 07:31 PM IST

जयपुर। नए मोटर व्हीकल एक्ट के भारी जुर्मानों और डीजल—पेट्रोल महंगे होने के विरोध में सोमवार को जयपुर सहित प्रदेश के कई जिलों में ट्रांसपोटर्स और टैक्सी कार, बस यूनियन की ओर से हड़ताल की गई। हड़ताल के कारण जयपुर में 30 हजार ट्रकों के पहिए थमे रहे। वहीं, 15 हजार कार टैक्सी नहीं चली। दिनभर हड़ताल को देखते हुए परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने परिवहन मुख्यालय में ट्रांसपोटर्स की बैठक बुलाई। इस दौरान उन्होंने कहा कि मोटर व्हीकल एक्ट को राजस्थान सरकार ने एक साल तक अटकाया। भारी जुर्मानों का हमने केन्द्र के सामने विरोध किया। लेकिन केन्द्र सरकार ने राजस्थान सरकार को नोटिस दिए। हमें एक्ट को लागू करने के लिए मजबूर किया गया। सीने पर पत्थर रखकर हमने एक्ट लागू किया है। लेकिन कोरोनाकाल में ट्रांसपोटर्स सहित अन्य को परेशानी आ रही है। ऐसे में मुख्यमंत्री से बात करके एक्ट के जुर्मानों पर फिर पुर्नविचार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि एक्ट का फायदा उठाकर परिवहन और पुलिस अधिकारी जनता को परेशान नहीं करें। उन्होंने कहा कि एक्ट में पुलिस को ज्यादा अधिकार नहीं है। ऐसे में पुलिस जनता का हित ध्यान रख परेशान नहीं करें। मंत्री ने ट्रांसपोर्टर्स को सभी मांगों पर सुनवाई करने का आश्वासन दिया।


हड़ताल का असर : जयपुर से बाहर नहीं गया माल, व्यापारी परेशान रहे
जयपुर में ट्रांसपोटर्स की हड़ताल के कारण व्यापारी परेशान रहे। सुबह से ही जयपुर से बाहर ट्रकों में माल नहीं गया। हड़ताल की घोषणा के चलते बाहरी राज्यों से सब्जी, फल और खाद्य पदार्थों के 30 फीसदी वाहन ही आए। जयपुर ट्रांसपोट एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल आनंद ने बताया कि राजधानी में 30 हजार वाहन जयपुर से बाहर नहीं गए। एक दिन पहले लोड होने वाले महज 10 फीसदी ट्रक ही निकले। दूसरी ओर कार टैक्सी यूनियन के अध्यक्ष दिलीप सिंह महरौली ने बताया कि कार टैक्सी हड़ताल के कारण शहर में एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन से टैक्सी कारों का संचालन नहीं हुआ। इससे यात्रियों को परेशानी हुई। इससे पहले जयपुर ट्रक आॅपरेटर्स यूनियन के अध्यक्ष गोपाल सिंह के नेतृत्व में परिवहन मुख्यालय पर प्रदर्शन किया।

यह प्रमुख मांगे रखी

मोटर व्हीकल एक्ट को पहले की तरह यथावत रखा जाए

डीजल पेट्रोल के दामों में कटौती की जाए

सरकारी परिवहन कार्यालयों में फिटनेस सेंटर शुरू किए जाएं

15 साल पुरानी वाहनों को संचालन को शहर से बाहर संचालन की अनुमति दी जाए

Vijay Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned