केन्द्र सरकार ने कलेक्टरों को दिए स्किल मैपिंग कार्य जल्द पूरा करने के निर्देश

केन्द्र सरकार ने कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि स्किल मैपिंग का कार्य जल्द से जल्द कर लिया जाए। राज्य सरकार के कौशल एवं आजीविका विकास निगम ऎसे उपाय करें जिससे लॉकडाउन के बाद आजीविका छिनने की पीड़ा झेल रहे श्रमिकों को आसानी से रोजगार मिल सके और श्रमिकों की कमी का सामना कर रहे उद्योगों को सुगमता से श्रमिक उपलब्ध हो सकें।

By: Prakash Kumawat

Published: 17 Jun 2020, 09:50 PM IST

केन्द्र सरकार ने कलेक्टरों को दिए स्किल मैपिंग कार्य जल्द पूरा करने के निर्देश


जयपुर, 17 जून।
केन्द्र सरकार ने कलेक्टर्स को निर्देश दिए कि स्किल मैपिंग का कार्य जल्द से जल्द कर लिया जाए। राज्य सरकार के कौशल एवं आजीविका विकास निगम ऎसे उपाय करें जिससे लॉकडाउन के बाद आजीविका छिनने की पीड़ा झेल रहे श्रमिकों को आसानी से रोजगार मिल सके और श्रमिकों की कमी का सामना कर रहे उद्योगों को सुगमता से श्रमिक उपलब्ध हो सकें।

केन्द्रीय कौशल एवं आजीविका विभाग की सचिव ने बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से विभिन्न राज्यों के सचिव एवं जिला कलेक्टर्स से संवाद करते हुए राज्य सरकार द्वारा श्रमिकों और उद्योगों की सहूलियत के लिए बनाए गए राज कौशल पोर्टल तथा ऑनलाइन श्रमिक एम्प्लॉयमेंट एक्सचेंज की तारीफ भी की।
श्रम विभाग के शासन सचिव डॉ. नीरज के. पवन ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में बताया कि राज कौशल पोर्टल और ऑनलाइन श्रमिक एम्प्लॉयमेंट एक्सचेंज उद्योगों एवं श्रमिकों के लिए सेतु का काम कर रहा है। उन्होंने बताया कि इस पोर्टल पर 12 लाख प्रवासी श्रमिकों के साथ ही नियोजन कार्यालयों तथा भवन एवं अन्य संनिर्माण बोर्ड के पंजीकृत श्रमिकों, आरएसएलडीसी एवं आईटीआई में प्रशिक्षित 52 लाख 66 हजार से अधिक श्रमिकों एवं जनशक्ति का डाटा उपलब्ध है। साथ ही करीब 12 लाख से अधिक नियोक्ताओं को भी इस पर पंजीकृत किया गया है। इसके अलावा कोई भी श्रमिक इस पोर्टल पर स्वयं का रजिस्ट्रेशन करा सकता है। वीडियो कॉन्फ्रेंस में कौशल आजीविका मिशन निदेशक प्रतीक झांझरिया एवं अन्य अधिकारी शामिल थे।

Prakash Kumawat
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned