चुनौतियां आगे बढऩे के लिए करती हैं प्रेरित: सिन्हा


टाइम मैनेजमेंट और कला क्षेत्र को आगे बढ़ाने के मंत्र साझा किए आईएएस मुग्धा सिन्हा ने
वर्चुअल इंटरेक्शन सेशन में रूबरू हुई मुग्धा सिन्हा

 

By: Rakhi Hajela

Published: 03 Apr 2021, 08:24 PM IST


जयपुर,3 अप्रेल
राजस्थान स्टूडियो की ओर से आयोजित वर्चुअल इंटरेक्शन सेशन में वरिष्ठ आईएएस अधिकारी और कला एवं संस्कृति विभाग की प्रमुख शासन सचिव मुग्धा सिन्हा रूबरू हुई। उन्होंने राजस्थान स्टूडियो के फाउंडर कार्तिक गग्गर से बातचीत करते हुए अपने अनुभव शेयर किए। सिन्हा ने अपने बचपन को याद करते हुए कहा कि अच्छे पालन पोषण से जीवन को सही दिशा मिली। अपनी बहनों में सबसे बड़ी होने के चलते ही बचपन से ही जिम्मेदार और अनुशासित थीं। कम उम्र में ही अपने पिता, जो कि भारतीय वायु सेना में पायलट थे,को खो दिया था और उनकी मां ने माता और पिता की भूमिका निभाते हुए उन्हें आगे बढ़ाया। उन्होंने कहा कि मेरे व्यक्तित्व पर मां का प्रभाव पड़ा और उन्हीं से समय प्रबंधन का गुर सीखा। पंचतंत्र की कहानी पढऩा और चित्रकारी करना उनके शुरुआती जीवन का हिस्सा रहा।
आर्ट, आर्टिस्ट, ऑडियंस और एडमिनिस्ट्रेशन का अहम रोल
मुग्धा का कहना है कि कला और संस्कृति में एक त्रिकोणीय संरचना होती है जिसे कहते हैं 3 ।. यानि आर्ट, आर्टिस्ट और ऑडियंस। यहां एक कोण पर कला, दूसरे पर कलाकार और तीसरे पर दर्शक या श्रोता होते हैं। यह त्रिकोणीय संरचना एक वर्ग का रूप ले लेती है। जब इसमें एक एडमिनिस्ट्रेशन जुड़ जाता है, जो कि कलाप्रेमियों को कला से जुडऩे का माध्यम उपलब्ध कराता है और जब सब मिलकर काम करते हैं तो यह वर्ग एक मजबूत सर्किल का रूप ले लेता है। मेरा प्रयास है कि राजस्थान के कला क्षेत्र और कलाकारों को अवसर और मंच मिले और इसीलिए एक्सेस, अवेलेबिलिटी और अफोर्डेबिलिटी के कॉन्सेप्ट पर काम कर रही है, जिसके तहत सरकार, कलाकारों और जनता के बीच परस्पर सामंजस्य एवं सही कनेक्ट स्थापित हो।
वर्चुअल सेशन से बढ़ती है आउटरीच
उन्होंने कहा कि बदलते परिदृश्य और तकनीक को समस्या नहीं चुनौती के रूप में देखना चाहिए, क्योंकि चुनौतियां ही आगे बढऩे के लिए और समाधान के लिए प्रेरित करती हैं। उनका कहना था कि वर्चुअल सेशन आउटरीच बढ़ाने का काम करते हैं और साथ ही टाइम मैनेजमेंट के लिहाज से भी बेहतर हैं।
स्थापना दिवस पर होगी एस्ट्रो फोटोग्राफी वर्कशॉप
उन्होंने 8 अप्रैल को जवाहर कला केंद्र के स्थापना दिवस पर आयोजित होने वाले एक विशेष कार्यक्रम की जानकारी भी साझा की। इस उपलक्ष्य में एस्ट्रो फोटोग्राफी नामक वर्कशॉप का आयोजन किया जा रहा है, जहां प्रतिभागियों को आकाशगंगा और चांद सितारों की तस्वीर खींचने के गुर सिखाए जाएंगे। साथ ही साथ एस्ट्रो स्काई नाट टूरिज्म के तहत उन्हें रात को ग्रहों और आकाशगंगा को उपकरणों की सहायता से देखने का अवसर भी मिलेगा।

Rakhi Hajela Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned