देखिए...लांच के लिए तैयार हुआ चंद्रयान-2

Anand Kumar

Publish: Jul, 14 2019 07:21:51 PM (IST)

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

भारत का चंद्रयान-2 मध्य रात्रि करीब दो बजे रवाना होगा। देश के लिए गौरवान्वित करने वाले इस खास मिशन में कानपुर आईआईटी के वैज्ञानिकों की भूमिका काफी अहम है क्योंकि यहीं के वैज्ञानिकों ने मिशन के लिए सबसे महत्वपूर्ण सॉफ्टवेयर तैयार किया है। इस सॉफ्टवेयर को मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रो. आशीष दत्ता व इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रो. केएस वेंकटेश ने बनाया है। इसे मोशन प्लानिंग और मैपिंग जेनरेशन सॉफ्टवेयर नाम दिया गया है। यह वह सॉफ्टवेयर है जो चंद्रयान-2 के छह पहिए वाले रोवर ‘प्रज्ञान’ को चांद की सतह पर रास्ता दिखाएगा जिसके जरिए प्रज्ञान चांद पर पानी व खनिज की तलाश करेगा। वहां की स्थिति का फोटो खींचकर इसरो को भेजेगा। आईआईटी वैज्ञानिकों का यह सॉफ्टवेयर रोवर का मूवमेंट तो तय करेगा ही साथ में उसका रूट भी निर्धारित करेगा, जिससे ऊर्जा खपत सबसे कम हो। रोवर को टारगेट तक पहुंचाने के लिए उसे बीच में पड़ने वाले सभी बाधाओं से भी आगाह करेगा। इसका संचालन 20 वॉट की सौर व बैटरी की ऊर्जा से होगा। यह सॉफ्टवेयर प्रज्ञान को चांद की सतह में खुदाई कर पानी व केमिकल तलाशने में भी मदद करेगा। चंद्रयान 2 की विशेष बात यह है कि पहली बार कोई चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा। अभी तक यहां पर कोई नहीं पहुंच पाया है। चंद्रयान छह या सात सितंबर को चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव के पास लैंड करेगा। ऐसा होते ही भारत चांद की सतह पर लैंडिंग करने वाला चौथा देश बन जाएगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned