शिक्षा के साथ हो विद्यार्थियों का चरित्र निर्माण: गहलोत

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि जब तक हम आदर्श जीवन मूल्यों को नहीं अपनाएंगे, हमारा जीवन खुशहाल नहीं हो सकता। ऎसे में जरूरी है कि विद्यार्थियों को शिक्षा प्रदान करने के साथ-साथ उनका चरित्र निर्माण भी हो। कोरोना महामारी ने जीवन के प्रति हमारी सोच को बदला है। इसने भौतिकतावाद की ओर तेजी से बढ़ रहे हमारे कदमों को थामा है। यह उचित समय है कि हम ऎसे विषयों पर चर्चा करें जिनसे सुखी और समृद्ध जीवन की तरफ बढ़ा जा सके।

By: Prakash Kumawat

Updated: 26 Jun 2020, 08:22 PM IST

शिक्षा के साथ हो विद्यार्थियों का चरित्र निर्माण: गहलोत
कोरोना ने जीवन के प्रति बदली हमारी सोच: मुख्यमंत्री

जयपुर, 26 जून। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि जब तक हम आदर्श जीवन मूल्यों को नहीं अपनाएंगे, हमारा जीवन खुशहाल नहीं हो सकता। ऎसे में जरूरी है कि विद्यार्थियों को शिक्षा प्रदान करने के साथ-साथ उनका चरित्र निर्माण भी हो। कोरोना महामारी ने जीवन के प्रति हमारी सोच को बदला है। इसने भौतिकतावाद की ओर तेजी से बढ़ रहे हमारे कदमों को थामा है। यह उचित समय है कि हम ऎसे विषयों पर चर्चा करें जिनसे सुखी और समृद्ध जीवन की तरफ बढ़ा जा सके।
मुख्यमंत्री गहलोत शुक्रवार को मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय द्वारा सुखी एवं समृद्ध जीवन विषयक पांच दिवसीय कार्यशाला में ई-प्रमाण पत्र वितरण समारोह में कहा कि मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी की चुनौती को हमने अवसर के रूप में लेते हुए हैल्थ सेक्टर को मजबूत किया है। इसी तरह के नवाचार हर क्षेत्र में किए जाएं। उन्होंने कहा कि आज अर्थव्यवस्था बेहद नाजुक दौर में है। लोगों की आजीविका प्रभावित हुई है। इस वक्त ऎसी कार्यशालाएं महत्वपूर्ण साबित हो सकती हैं।
तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सुभाष गर्ग ने कहा कि सुखी और समृद्ध जीवन की अवधारणा की शुरूआत शिक्षण संस्थानों से ही होनी चाहिए। शिक्षक स्वयं इसकी पालना करेंगे, तो विद्यार्थी भी इसके लिए प्रेरित होंगे। उन्होंने कहा कि कोटा एवं बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय सम्बद्ध कॉलेजों के विकास में अपनी भूमिका निभाएं।

उच्च शिक्षा राज्य मंत्री भंवरसिंह भाटी ने कहा कि कॉलेज शिक्षा से जुड़े विद्यार्थियों ने कोरोना के दौरान सेवाभाव के साथ काम किया है। हमारी शिक्षा मानवीय मूल्यों से प्रेरित हो और तकनीकी ज्ञान का मानव समाज के लिए उपयोग हो। हम ऎसी तकनीक खोजें, जिनसे पर्यावरण का नुकसान नहीं हो। बीकानेर तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति ने बताया कि विश्वविद्यालय में सुखी और समृद्ध जीवनशैली के लिए आनंदम कोर्स प्रारम्भ करने की तैयारी की गई है। मुख्य सचिव डीबी गुप्ता, अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त निरंजन आर्य, प्रमुख शासन सचिव सूचना एवं प्रौद्योगिकी अभय कुमार, कॉलेज शिक्षा आयुक्त प्रदीप कुमार बोरड़ तथा सूचना एवं जनसम्पर्क आयुक्त महेन्द्र सोनी भी कार्यक्रम शामिल हुए।

Congress
Prakash Kumawat Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

अगली कहानी
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned