मुख्यमंत्री गहलोत का बजट रिप्लाई, नई घोषणाओं के साथ केन्द्र, भाजपा पर निशाना भी

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरूवार को विधानसभा में अपने बजट रिप्लाई में राज्य के कई स्थानों के लिए नई घोषणाएं करते हुए हॉर्स ट्रेडिंग, जीएसटी, नोटबंदी, किसान आंदोलन, पेट्रोल डीजल की बढ़ते दामों, केन्द्र प्रवर्तित योजनाओं में तोड़मोड़ करने के साथ अन्य मुद्दों पर विपक्ष और केन्द्र सरकार पर जमकर निशाना साधा।

By: Ashish

Published: 04 Mar 2021, 08:13 PM IST

जयपुर

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरूवार को विधानसभा में अपने बजट रिप्लाई में राज्य के कई स्थानों के लिए नई घोषणाएं करते हुए हॉर्स ट्रेडिंग, जीएसटी, नोटबंदी, किसान आंदोलन, पेट्रोल डीजल की बढ़ते दामों, केन्द्र प्रवर्तित योजनाओं में तोड़मोड़ करने के साथ अन्य मुद्दों पर विपक्ष और केन्द्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। इस अवसर पर गहलोत ने कहा कि जिंदगी में सीएम बनने के लिए वेल्यू बेस राजनीति करनी पड़ती है। ऐसा नहीं करोगे तो सीएम नहीं बन पाओगे। गहलोत ने राज्य में राज्य में हिटलरशाही की बात पर तंस कसते हुए कहा कि हिटलरशाही दिल्ली में चल रही है। गहलोत ने कहा कि आज इनकम टेक्स, ईडी, सीबीआई, इलेक्शन कमीशन ज्यूडिशरी कोई बचा है क्या..। अचानक नोटबंदी हो गई, काम धंधे बर्बाद हो गए, कोई सुनने वाला नहीं। जीएसटी के एक स्लैब के जरिए 5 स्लेब् बना दि, काले कानून बन गए लेकिन कोई परवाह नहीं। ये क्या हो रहा है, कोई कहने वाला नहीं।


चिरंजीवी कह साधा निशाना

आंदोलनजीवी शब्द को लेकर सीएम ने भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के लिए कहा कि हम आपको चिरंजीवी कहेंगे। हम आपके आगे बढ़ने की शुभकामना करते हैं।

जो कहा है, करके दिखाएंगे
गहलोत ने कहा कि जब बजट पेश किया तो आपके पास कहने को कुछ नहीं था, कुछ तो प्रेस से मुंह छिपाकर चले गए, चिंता प्रकट कर रहे हैं। 2019—20 के बजट की आलोचना कर रहे हैं। जो चिंता सरकार को करनी चाहिए वो चिंता विपक्ष कर रहा है। नेता प्रतिपक्ष बाजीगरी कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा जो कहा है, पहले भी करके दिखाया, अब भी दिखाएंगे। कोई चिंता करने की जरूरत नहीं है।

कोरोना काल में शानदार प्रबंधन किया
गहलोत ने कहा कि कोरोना के बावजूद जिस तरह से राज्य सरकार ने प्रबंधन किया, मुझे लगता था, नेता प्रतिपक्ष सराहना करेंगे लेकिन वो नहीं बोले। कोरोना में जब सांसे अटकी हुईं थी, तब हमने शानदार प्रबंधन किया।
बजट घोषणााओं की हम मॉनिटरिंग कर रहे हैं। हमने मार्च में जो रूपया डेफर किया था वो अब रिलीज कर दिया है। चाहे केन्द्र से अनुदान मिले या नहीं मिले।
हिस्सेदारी में तोड़मरोड़ कर दी
केन्द्र प्रवर्तित योजनाओं में राज्यों की हिस्सेदारी बढ़ाने, जीएसटी का हिस्सा देने को लेकर भी गहलोत ने केन्द्र सरकार पर निशाना साधा। गहलोत ने कहा कि हम केन्द्र से अपना अधिकार मांग रहे हैं। केन्द्र का रवैया अफसोसजनक है। केन्द्र प्रवर्तित योजनाओं में राज्य, केन्द्र की हिस्सेदारी में तोड़मरोड़ कर दी।
कमियां बताते तो खुशी होती
गहलोत ने नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के सदन में कही गई बात पर पटलवार करते हुए कहा कि आपको खाली बोलना था, अटैक करना था लेकिन आपने पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर बोला। आप कमियां बताते तो खुशी होती। गहलोत ने कहा कि पिछले साल 2 लाख 25 हजार 764 करोड़ का बजट था, अब 2 लाख 50 हजार से ज्यादा का बजट पेश किया है। भाजपा सरकार से मिले घाटे को कम किया। सरकार को भाजपा के बनाए हालातों को ठीक करने के लिए मशक्कत करनी पड़ रही है।

पेट्रोल डीजल की कीमत को लेकर निशाना
गहलोत ने कहा कि पेट्रोल डीजल के भाव बढ़ते जा रहे हैं, एक्साइज् डयूटी केन्द्र बढ़ाता है और बदनाम राज्य सरकार होती है। राज्य में दाम करने के लिए सरकार ने 2 फीसदी वैट कम किया। केन्द्र ने 2020 21 के बजट में राज्य को मिलने वाले केन्द्रीय करों में 14 हजार करोड़ की कटौती कर दी।
2021 22 में पहले ही कर दिया कि केन्द्रीय करों 12 हजार करोड़ की कटौती होगी पता नहीं जीएसटी का क्या होगा।
नेता प्रतिपक्ष पर किया पलटवार
गहलोत ने कहा हमने जो वादे बजट में किए हैं, उन्हें पूरा किया जाएगा। जिस रूप में हमने बजट पेश किया है जो घोषणाएं की हैं वो राज्य के हितों को देखते हुए की हैं। राज्य में दिवंगत विधायकों के नाम पर कॉलेज खोलने के साथ ही शिक्षा को लेकर नेता प्रतिपक्ष कटारिया के बयान पर गहलोत ने कहा कि आप तो टीचर थे, आपको पता है कि शिक्षा का क्या महत्व है, उसके बावजूद भी आपने कॉलेज खोलने की आलोचना कीं। किरण माहेश्वरी के नाम से कॉलेज खोलने के लिए भी आब्जेक्शन कर दिया, अब तो वो दुनिया में नहीं है।
सदन में की कई नई घोषणाएं
गहलोत ने शिक्षा, चिकित्सा, किसान ई मंडी, जैविक पंजीकरण के लिए उपकेन्द्र, कृषि महाविद्यालय की स्थापना, बेघर और पुर्नवास नीति लाई जाएगी, वाल्मिकी कोष बनाने, आवासीय विद्यालयों में एडमिशन के लिए अभिभावक की आय सीमा बढ़ाने, अल्पसंख्यक भाषाओं के अतिरिक्त शिक्षक लगाने, वांगड़ सांस्कृतिक केन्द्र बनाने, आद्यौगिक क्षेत्र घोषित करने, जयपुर चारदीवारी क्षेत्र में सीवरेज व अन्य कार्य के लिए 50 करोड़, नए एक्सईएन कार्यालय खोलने, कई स्थानों पर सड़कों के मेजर रिपेयर कार्य, बाईपास बनाने, सड़कों के डामरीकरण, नए उपखंड कार्यालय खोलने, नई पुलिस चौक, जयसिंहपुरा खोर में नया पुलिस थाना खोला जाएगा, नए एडीजे कोर्ट खोलने, अधिस्वीकृत पत्रकारों की मेडिक्लेम पॉलिसी का कवर बढ़ाने, सीनियर जर्नलिस्ट के लिए पेंशन की राशि को बढाने समेत अन्य कई घोषणाएं कीं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned