आज मिलेगी 'सेहत की दवा'

आज मिलेगी 'सेहत की दवा'

Abhishek Sharma | Publish: Feb, 09 2016 11:37:00 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस पर बुधवार को उपखंड क्षेत्र में आंगनबाड़ी केन्द्रों, सरकारी व निजी विद्यालयों में पढऩे वाले हजारों बच्चे डिवर्मिंग की दवा लेंगे। जानकारी के अनुसार प्रारम्भिक शिक्षा विभाग व चिकित्सा विभाग के संयुक्त तत्वावधान में यूनिसेफ के सहयोग से यह दवा विद्यार्थियों को खिलाई जाएगी। विद्यालयों को विभाग की ओर से दवा नि:शुल्क उपलब्ध करवाई गई है। इस दवा को 1 से 19 वर्ष तक के सभी बच्चों को मध्याह्न भोजन (मिड-डे मिल) के बाद खिलाई जाएगी। वहीं स्कूल नहीं जाने वाले बच्चों को भी आंगनबाड़ी व सरकारी विद्यालयों में दवा खिलाई जाएगी।

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस पर बुधवार को उपखंड क्षेत्र में आंगनबाड़ी केन्द्रों, सरकारी व निजी विद्यालयों में पढऩे वाले हजारों बच्चे डिवर्मिंग की दवा लेंगे। जानकारी के अनुसार प्रारम्भिक शिक्षा विभाग व चिकित्सा विभाग के संयुक्त तत्वावधान में यूनिसेफ के सहयोग से यह दवा विद्यार्थियों को खिलाई जाएगी। विद्यालयों को विभाग की ओर से दवा नि:शुल्क उपलब्ध करवाई गई है। इस दवा को 1 से 19 वर्ष तक के सभी बच्चों को मध्याह्न भोजन (मिड-डे मिल) के बाद खिलाई जाएगी। वहीं स्कूल नहीं जाने वाले बच्चों को भी आंगनबाड़ी व सरकारी विद्यालयों में दवा खिलाई जाएगी। तहसील स्तर पर दवा खिलाने का शुभारम्भ चौमूं के राजकीय सामुदायिक चिकित्सालय में बुधवार सुबह 9 बजे विधायक रामलाल शर्मा बच्चे को डिवर्मिंग की दवा खिलाकर करेंगे। इस दवा से बच्चों के पेट में पैदा होने वाले कृमि नष्ट होंगे, साथ ही थकान व बैचेनी आलस, पेट में दर्द, लगातार खांसी, एनिमिया, उल्टी-दस्त जैसे रोगों से निजात मिलेगी।
मनाया जाएगा हाथ धुलाई दिवस
बुधवार को विद्यालयों में विद्यालय प्रबंध कमेटी के सदस्यों की उपस्थिति में बच्चों को हाथ धुलाई की प्रक्रिया के बारे में भी बताया जाएगा जाएगी। मिड-डे मील से पूर्व बच्चों के हाथ साबुन से धुलाए जाएंगे।
स्वच्छता परीक्षा में अव्वल रहने पर पुरस्कृत
इस मौके पर गत 5 फरवरी को स्वच्छ भारत व स्वच्छ विद्यालय अभियान के तहत आयोजित परीक्षा में बालक व बालिका वर्ग में विद्यालय स्तर पर प्रथम स्थान पाने वाले छात्र-छात्राओं को विद्यालय की ओर से 150-150 रुपए की राशि देकर पुरस्कृत किया जाएगा। गौरतलब है कि बच्चों में स्वच्छता की आदत विकसित करने को लेकर विभाग के निर्देश पर गत 5 फरवरी को विद्यालयों में यह परीक्षा आयोजित की गई थी। जिनमें विद्यालय स्तर पर अव्वल रहने वाले विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया जाना है।
दो साल से गड़बड़ाया कलैण्डर
स्कूलों में डिवर्मिंग दवा की शुरुआत 15 अक्टूबर 2012 से की गई थी। उस समय प्रारम्भिक शिक्षा विभाग की ओर से 15 अक्टूबर व 15 अप्रेल को छह माह के अंतराल पर यह दवा खिलाना आवश्यक था, लेकिन विगत दो सालों से विभाग एक वर्ष में दो बार की जगह 10 फरवरी को ही एक बार दवा का सेवन करवा कर इतिश्री कर रहा है। इसके चलते बच्चों को दवा का पूरा लाभ नहीं मिल पा रहा। चिकित्सकों के अनुसार यह दवा छह माह तक की कृमियों पर प्रभावी नियंत्रण करती है।
ब्लॉक के सभी सरकारी व निजी विद्यालयों एवं आंगनबाड़ी केन्द्रों पर राष्ट्रीय डिवर्मिंग दिवस पर कृमिनाशक दवा खिलाई जाएगी। जिसके तहत ब्लॉक के करीब 35 हजार बच्चों को यह दवा खिलाई जाएगी।
दीपचन्द बुनकर, ब्लॉक प्रारम्भिक शिक्षा अधिकारी, गोविन्दगढ़
छोटे बच्चों को डिवर्मिंग दवा छह-छह माह के अंतराल से देना लाभदायक है। इससे बच्चों को पेट दर्द, खून की कमी, थकान, कमजोरी व बैचेनी, आलस से निजात मिलेगी।
डॉ. अजीतसिंह शेखावत, चिकित्सक राजकीय सामुदायिक चिकित्सालय चौमूं

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned