रेगिस्तान के पार हवाई अड्डों का जाल बिछा रहा है चीन

जयपुर. लद्दाख क्षेत्र से लगती सीमा पर भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की नापाक कोशिश कर रहा चीन पाकिस्तान के साथ मिलकर जैसलमेर बीकानेर आदि से लगती पश्चिमी सीमा पर अपनी सामरिक स्थिति भी मजबूत करने में लगा हुआ हैं।

By: Subhash Raj

Published: 26 Jun 2020, 08:52 PM IST

जानकारी के अनुसार पिछले कुछ महीनों से तेल गैस के वैज्ञानिकों को लाने ले जाने की सुविधा बढ़ाने के नाम पर चीन ने पाकिस्तान की जमीन पर हवाईअड्डों का जाल बिछाना शुरु कर दिया हैं। हाल में चीन ने बाड़मेर के मुनाबाव के सामने सीमा पार एवं जैसलमेर के शाहगढ़ बल्ज के सामने कादनवाली क्षेत्र में नये एयरपोर्ट बनाये हैं। गुजरात के सामने सीमा पार मिठी में भी नया एयरपोर्ट बन रहा हैं। कई रेल लाइन एवं सड़कों का जाल बिछाने की पश्चिमी सीमा पर कोशिश की जा रही हैं।
बताया जाता हैं कि चीन ने भारत से लगती पाकिस्तान सीमा में तीस हजार करोड़ से ज्यादा निवेश कर रखा है। चीन ने अपनी कंपनियों को पनपाने और बचाने के लिए पाकिस्तान के अंदर अपना खुद का इलाका बना लिया है जहां पाकिस्तानी भी बिना पूछे नही जा सकते हैं। राजस्थान से लगती 1025 किलोमीटर की सीमा पर चीन की तीस से ज्यादा कंपनियां तेल और गैल के खोज के अलावा निर्माण के कामों में लगी है। भारत से लगती पाकिस्तान की सीमा पर चीन की बड़ी कंपनियों का कब्जा है। इन कंपनियों में चीन की बड़ी सरकारी चाइना नेशनल इंजीनियरिंग कंपनी, चाइना जी.एस. भी शामिल है। चीन थार रेगिस्तान में अपना सबसे बड़ा तेल और गैस का प्रोजेक्ट चला रहा है। यहां तक कि चाइना पाकिस्तान इकोनोमिक कॉरिडोर का एक हिस्सा बार्डर के इलाके से ही गुजरता है, जिस पर चीन करीब अब तक सौ बिलियन डालर खर्च कर रहा हैं। जैसलमेर के तनोट लोंगेवाला क्षेत्र से लगती अंतर्राष्ट्रीय सीमा के सामने सीमा पार भारतीय सीमा से महज 7-8 किलोमीटर अंदर पाकिस्तान के घोटकी और रहमियार खान जिले में जबरदस्त तेल के भंडार मिले हैं, जहां चाइनीज कंपनी की मदद से भारी मात्रा में तेल का उत्पादन किया जा रहा हैं। लोंगेवाला क्षेत्र से इलाकों में चाइनीज गतिविधियां साफ नजर आती है। पाकिस्तान ने सीमा से लगती घोटारू क्षेत्र में 2005-06 से तेल गैस खोज कार्य शुरु किया था। बाड़मेर से लगती पाकिस्तानी सीमा पर मुनाबाव के सामने घूंघर, जवाहर शाह, शामगढ़, बिलाली घाट और हारू में 2 से 3 किलोमीटर की दूरी पर सीमा पास चीनी तेल और गैस कंपनियों में काम करते दिख जाते हैं।

Subhash Raj
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned