जिसके नाम से 2 करोड़ कैश ऋण उठा, वह निकला मामूली दुकानदार, पीडि़त बोला- मेरी हालात देख लगता है...

जिसके नाम से 2 करोड़ कैश ऋण उठा, वह निकला मामूली दुकानदार, पीडि़त बोला- मेरी हालात देख लगता है...

Dinesh Saini | Updated: 20 Sep 2019, 02:07:16 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

Chit Fund Scam: Sanjivani Credit Cooperative Society

जयपुर। संजीवनी क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी ( Sanjivani Credit Cooperative Society ) की जांच में एक से बढकऱ एक चौकान्ने वाले खुलासे हो रहे हैं। एसओजी ( SOG ) सोसायटी से 2 करोड़ रुपए का कैश ऋण लेने वाले बालोतरा निवासी धनसिंह के पास पहुंची। धन सिंह मामूली फैंसी आइटम की दुकान करने वाला निकला। पीडि़त बोला, मेरी हालात देख लगता है... मैंने 2 करोड़ रुपए का ऋण लिया है। मैंने तो खुद 60 हजार रुपए की एफडी संजीवनी सोसायटी में करवा रखी है। लेकिन एफडी ( FD ) की मियाद पूरी होने के बाद भी उसे रकम नहीं मिली। एफडी करवाते समय सोसायटी को अपने दस्तावेज दिए थे। जब धनसिंह ने ऋण संबंधित दस्तावेज देखे तो दस्तावेज उसके थे, लेकिन ऋण वाले आवेदन पर उसके फर्जी हस्ताक्षर थे। एसओजी के मुताबिक, सोसायटी में निवेश करने वाले पीडि़त लोगों के दस्तावेज के जरिए फर्जी हस्ताक्षकर 55 हजार बोगस ऋ ण जारी किए गए।

कागजों में ब्रांच मैनेजर-कर्मचारी के नाम से उठाई रकम
एसओजी की पड़ताल में सामने आया है कि संजीवनी के पदाधिकारियों ने प्रदेश में 28 और गुजरात में 5 ब्रांचें खोलकर ऋ ण स्वीकृत किए। लेकिन ये ब्रांच कागजों में ही खोली गईं। अब तक जांच में मौके पर अधिकांश ब्रांच ऑफिस का अस्तित्व ही नहीं मिला। जबकि कागजों में ब्रांच ऑफिस के भवन का किराया देना, मैनेजर और कर्मचारियों की तनख्वाह तक बांटना दिखाया गया है। एसओजी ने संजीवनी सोसायटी द्वारा जारी 55 हजार स्वीकृत ऋ ण की फाइलों को अपनी कस्टडी में जरूर ले लिया। सभी की जांच करने की बजाय हर ब्रांच ऑफिस से रेंडमली 15-15 फाइलों की जांच की जा रही है।

संजीवनी सोसायटी के चार और पदाधिकारी गिरफ्तार
एसओजी ने संजीवनी के 4 अन्य पदाधिकारियों को और गिरफ्तार किया है। एडीजी अनिल पालीवाल ने बताया कि सोसायटी के अध्यक्ष नरेश सोनी, सीओ किशन सिंह चूली, भूतपूर्व अध्यक्ष (2016 से 2018 तक) देवी सिंह और भूतपूर्व अध्यक्ष (वर्ष 2014 से 2016 तक) शैतान सिंह को गिरफ्तार किया है। अनुसंधान अधिकारी सत्यपाल मिढा ने जांच में पाया कि सोसायटी की लेखा पुस्तिकाओं में करीब 1100 करोड़ रुपए के ऋ ण दर्शित किए गए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned